class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

थल सेना को मिले 504 जांबाज अफसर

कौम की जिन्दगी को कौम पर लुटाने के संकल्प के साथ ही भारतीय सैन्य अकादमी की दीक्षान्त परेड में थल सेना को 504 जांबाज अफसर मिल गए। इस अवसर पर 18विदेशी कैडिट भी पास आउट हुए। दीक्षान्त परेड के मुख्य अतिथि नेपाल के सेन्नाध्यक्ष जनरल छत्रमानसिंह गुरंग ने युवा अधिकारियों को उग्रवाद और अपदाओं की चुनौतियों के प्रति भी सचेत किया।

ऐतिहासिक चेटबुड बिल्डिंग के समक्ष आयोजित भारतीय सैन्य अकादमी की शीतकालीन दीक्षान्त परेड के अवसर पर शनिवार को कुल 536 नव प्रशिक्षित जैंटलमैन कैडिट कठिन सैन्य प्रशिक्षण के बाद पास आउट हो गए जिनमें नेपाल सहित कुछ मित्र देशों के 18 कैडिट भी शामिल हैं। इनमें भूटान के छह, तजाकिस्तान के एक, मॉंरिशस के एक, नेपाल के दो ,कजाकस्तान के दो, मालदीव के दो और श्रीलंका के चार नव प्रशिक्षित अधिकारी शामिल हैं।

आज पास आउट होने वाले जैंटलमैन कैडेटों में 138 सीधी भर्ती के 154 एनडीए के हैं। इनके अलावा तकनीकी ग्रेजुऐटस कोर्स और टीईएस आदि के 149 जीसी भी इस परेड में पास आउट हुए। इस अवसर पर सर्वाधिक 148 अधिकारी पैदल सेना को मिले हैं। उसके बाद 92 अधिकारी आर्टिलरी में गए हैं।

परेड के मुख्य अतिथि और नेपाली सेना के प्रमुख जनरल गुरूंग, जो कि 1973 में इसी अकादमी से पास आउट हुए, ने इस अवसर पर अपनी यादें ताजा करते हुए कहा कि तब से लेकर अब तक काफी कुछ बदल चुका है।  नहीं बदला है तो जज्बा और सैन्य मूल्य।

उन्होंने कहा कि वह दुनियां की श्रेष्ठ अकादमियों में से एक इस अकादमी में प्रशिक्षित होने पर स्वयं को गौरवान्वित महसूस करते हैं। उन्होंने कहा कि नेपाली सेना को अब तक 120 बेहतरीन अफसर इस अकादमी से मिल चुके हैं जिनमें से कुछ नेपाली सेना के प्रमुख भी रहे हैं।

जनरल गुरूंग ने कहा कि बदलते वैश्विक परिवेश में चुनौतियां और युद्धनीति की प्रथमिकताएं बदल गई हैं। उन्होंने कहा कि भारत और नेपाल, दोनों की ही सेनाओं के समक्ष उग्रवाद और दैवी आपदाओं की नई चुनौतियां खड़ी हो गई हैं इसलिए युवा अधिकारियों को उन चुनौतियों के लिए तैयार रहना चाहिए।

इस अवसर पर आतंकी खतरे को देखते हुए अकादमी को अभेदय दुर्ग में बदला गया था। अपने बेटों के कन्धों पर सितारे जड़ने के लिये देश के कोने -कोने से जैंटलमैन कैडेटों के अभिभावक यहां आए हुए थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:थल सेना को मिले 504 जांबाज अफसर