अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तेजाब फेंकने वालों को 10 साल कैद की सिफारिश

तेजाब फेंकने वालों को 10 साल कैद की सिफारिश

तेजाब फेंककर हमला करने को अत्यधिक हिंसक अपराध मानते हुए विधि आयोग ने सिफारिश की है कि इस तरह के अपराध के लिये 10 वर्ष कैद से अधिकतम उम्र कैद की सजा रखी जाये और 10 लाख रुपये का दंड लगाया जाये। आयोग ने इस अपराध को दंड संहिता में शामिल करने की सिफारिश कर बाजार में तेजाब की खुले तौर पर होने वाली बिक्री पर रोक लगाने का भी आहवान किया है।
   
सरकार को दी अपनी रिपोर्ट में आयोग ने तेजाब से हमले, बलात्कार और यौन दुर्व्यवहार जैसे हिंसक अपराध के पीडितों को अंतरिम तथा अंतिम आर्थिक मुआवजा देने और उनके पुनर्वास के लिये चिकित्सकीय तथा अन्य तरह के खर्च मुहैया कराने के लिये आपराधिक घायलावस्था में मुआवजे संबंधी कानून को अमली जामा पहनाने का प्रस्ताव रखा है।
   
आयोग ने यह भी कहा कि भारतीय दंड संहिता में तेजाब से हमला करने के अपराध से निपटने के लिये कोई विशेष धारा नहीं है। इसके नतीजतन यह अपराध पृथक तौर पर दर्ज नहीं होते। क्षरण करने वाले तत्व फेंककर गंभीर रूप से घायल करने के अपराध से निपटने वाली भारतीय दंड संहिता की मौजूदा धाराओं के जरिये इस मुद्दे पर उचित तरीके से ध्यान नहीं दिया जा सकता।
   
आयोग ने अपनी ताजा रिपोर्ट में तेजाब फेंककर होने वाले हमलों पर स्वत:संज्ञान लेते हुए कहा, हम भारतीय दंड संहिता में एक नयी धारा 326ए जोड़ने का प्रस्ताव रखते हैं। हम यह भी सिफारिश करते हैं कि तेजाब के वितरण और बिक्री पर सख्ती से नियमन हो और दुकानों पर तेजाब की बिक्री पर रोक लगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तेजाब फेंकने वालों को 10 साल कैद की सिफारिश