DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खेतिहर बाप की पांचों बेटियां प्रोफेसर

खेतिहर बाप की पांच बेटियां और पांचों प्रोफेसर। कृषि से जीविका चलाने वाले शेखपुरा जिले के हसौढ़ी निवासी मो. जकरिया ने सोचा भी नहीं था कि पुरुष प्रधान समाज में उनकी बेटियां बेटों का भी कान काटेंगी। उनकी अच्छी परवरिश और बेटियों की मेहनत लोगों के सामने नहीं आतीं संभवत: अगर उनकी चौथी संतान शबनम परवीन की शादी पूर्व मंत्री और जदयू के वरीय नेता डा. मोनाजिर हसन ने नहीं हुई होती। हालांकि डा. हसन का कहना है कि एकेडिमक परिवार की इन बहनों के संस्कार का ही असर है कि इनके घरों में कोई डाक्टर बन रहा तो कोई इंजीनियर। प्रशासनिक और मर्केटिंग फील्ड में भी इनके बच्चे नाम कमा रहे हैं।ड्ढr ड्ढr पीएचडी डा. हसन की पत्नी डा. परवीन पटना के टीपीएस कॉलेज में रीडर हैं। उनकी दो बड़ी बहनें डा. अजरा वली और डा. तबस्सुम साजिद तिलका मांझी भागलपुर विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र विषय की यूनिवर्सिटी प्रोफेसर हैं। तीसरी बड़ी बहन डा. शौकत परवीन भागलपुर के प्रतिष्ठित सुन्दरवती महिला महाविद्यालय में राजनीति शास्त्र विषय में रीडर है। छोटी बहन डा. नीलू परवीन भी समाजशास्त्र विषय में लेक्चरर हैं। डा. शबनम परवीन का बेटा अभी इंजीनियरिंग कर रहा है।ड्ढr ड्ढr एक बेटा केन्द्रीय विद्यालय में इंटर का छात्र है तो बेटी नोट्र डेम में दसवीं की पढ़ाई कर रही हैं।ड्ढr हालांकि डा. मोनाजिर हसन का मानना है कि उनकी पत्नी के एकेडमिक होने का असर शादी के बाद थोड़े दिनों तक किचन पर पड़ा। कबाब, हलवा, सेवयै और पोलाव बनाने का गुर उन्हें डा. परवीन को सिखाना पड़ा। अब भी जल्दबाजी में टेस्टी आइटम बनाना हो तो किचन में डा. हसन को डा. परवीन के बतौर सहायक काम करना पड़ता है। डा. हसन का मानना है कि पत्नी के एकेडमिक का सबसे अधिक फायदा यह है कि घर की जिम्मेवारियों से पूरी तरह मुक्त हैं और राजनीति में ज्यादा समय बिताने का भरपूर मौका मिलता है। आम लोगों की तरह पत्नी उन्हें टार्चर नहीं करती। समझतीं है कि राजनीतिक व्यक्ित की क्या-क्या खामियां होती हैं। पर ज्यादा पढ़ी-लिखी पत्नी होने का डा. हसन को कुछ खामियाजा भी भुगतना पड़ा है। डा. हसन का कहना है कि उनकी मां हदिशा खातुन कम पढ़ी -लिखी होने के बाद जिस तबियत से अतिथियों का स्वागत करतीं थी उसका कोई सानी नहीं है। अतिथियों का खैरमकदम अब वैसा नहीं होता।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: खेतिहर बाप की पांचों बेटियां प्रोफेसर