class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कागजों पर मैं बस 12वीं पास हूं : आमिर

कागजों पर मैं बस 12वीं पास हूं : आमिर

आपकी रील और रीयल लाइफ में ज्यादा फर्क नजर नहीं आता। तो क्या अब आप रोल के लिए अपने शरीर पर ज्यादा ध्यान देने लगे हैं?
इसका कारण यह है कि ‘लगान’ के समय मैं एक साथ दो-तीन फिल्मों में काम करता था। मैं एक्टिंग में आनंद नहीं ले पाता था। ‘राजा हिन्दुस्तानी’ के दौरान मैंने धर्मेश दर्शन से कहा था कि वह एक ही शड्यूल में फिल्म की शूटिंग खत्म कर दें। पर उस समय फिल्म इंडस्ट्री इस तरह काम नहीं करती थी। आपको विश्वास नहीं होगा कि मैंने रंगीला, राजा हिंदुस्तानी और अकेले हम अकेले तुम में एक के बाद एक शूटिंग की थी। हर फिल्म के लिए मैंने सिर्फ 20 दिन का समय निर्धारित किया था। ‘लगान’ के समय सब कुछ बदल गया, क्योंकि मैं उसका निर्माता था। मुझे एक ही शड्यूल में यह फिल्म शूट करनी थी। यदि यह फिल्म नहीं चली होती तो नजारा ही कुछ और होता।

क्या अब आपके एट पैक एब्स खत्म हो गए?
जब खत्म हुए, तब बहुत तकलीफ हुई थी, क्योंकि इन्हें बनाने में मुझे एक वर्ष लगा था। मुझे चार घंटे जिम में नहीं जाना पड़ता था, बस मेरे लिए एक घंटा पर्याप्त था। लेकिन ‘3 इडियट्स’ के लिए मुझे दुबला होना जरूरी था।

एट पैक एब्स ज्यादा मुश्किल था या ‘3 इडियट्स’ के लिए 10 किलो वजन कम करना?
एट पैक के लिए काफी मेहनत करनी पड़ी, लेकिन मानसिक रूप से ‘3 इडियट्स’ ज्यादा चैलेंजिंग थी।

तो इस समय आपकी मानसिक उम्र कितनी है?
शारीरिक अनुभवों के साथ-साथ विभिन्न चीजों के प्रति हमारा नजरिया बदलता रहता है। उम्र के साथ प्रतिक्रियाओं का तरीका भी बदलता है। हममें से बहुत लोग समय के साथ चिपके हुए हैं। इस हिसाब से मैं 18 से 20 वर्ष के बीच हूं (हंसते हुए)।

आपके कहने का मतलब यह है कि 44 वर्ष की उम्र में 22 वर्ष के लड़के का रोल करते हुए आपको कोई परेशानी नहीं हुई?
किसी भी एक्टर के लिए वास्तविक उम्र से कम उम्र या ज्यादा उम्र का रोल करना चुनौतीपूर्ण होता है। जिस तरह 82 वर्ष की उम्र का किरदार करना भी चुनौती है, उसी तरह 22 वर्ष की उम्र का कैरेक्टर करना भी चुनौती है। कम या अधिक उम्र की मानसिकता में जाना आसान नहीं, इसीलिए जब ‘3 इडियट्स’ की स्क्रिप्ट मेरे पास आई, तब मैंने कहा कि यह रोल उस कलाकार को दीजिए, जिसकी उम्र वास्तव में 22 वर्ष हो। मैं क्यों वह कैरेक्टर करने जाऊंगा, जिसमें मुझे समय के पीछे की मानसिकता में जाना पड़े? लेकिन उन्होंने मुझ से कहा कि अभी मैं इतना युवा लगता हूं कि इस उम्र के लड़के के रोल में फिट लगूंगा। वैसे भी जिन अन्य कलाकारों शरमन जोशी, माधवन, करीना के साथ काम कर रहा हूं, इनमें से कोई भी 22 वर्ष का नहीं है।

इसके बावजूद आपका रोल आसान तो नहीं?
आसान नहीं था। ‘गजनी’ में मुझे प्रोटीन वाली चीजें खानी पड़ती थीं। चार घंटे एक्सरसाइज करनी पड़ती थी। ‘गजनी’ के बाद  मैं आधा हो चुका हूं। ‘3 इडियट्स’ के लिए मैंने  स्पेशल डाइट ली। पानी ज्यादा पीना पड़ता था, जल्दी सोना पड़ता था, बैडमिंटन खेलने के लिए जल्दी जागना पड़ता था।

जिसे फॉर्मल शिक्षा के विषय में भी अधिक जानकारी नहीं हो, उसे आईआईटी छात्र का रोल करना कैसा लगा?
कागज पर मैं 12वीं पास हूं, लेकिन डिग्री की कमी मुझे कभी नहीं खली, क्योंकि मेरी नजर में शिक्षा का मतलब अधिक अंक प्राप्त करना था। बेहतर ग्रेड पाना मेरा मकसद कभी नहीं रहा। मेरी नजर में शिक्षा का मतलब ज्ञान प्राप्त करना है। पिछले कुछ वर्षो में मैंने साइंस, इतिहास और साहित्य की बहुत-सी किताबें पढ़ी हैं। आज मैं जो जानता हूं, वह क्लास रूम के 12वीं कक्षा के स्टूडेंट से कहीं ज्यादा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कागजों पर मैं बस 12वीं पास हूं : आमिर