class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिर बोलेगा इंडिया ‘जबान संभाल के’

फिर बोलेगा इंडिया ‘जबान संभाल के’

90 के दशक का मशहूर धारावाहिक ‘जबान संभाल के’ एक बार फिर से आपको हंसाने के लिए तैयार है। भले ही हिंदी, हिंदुस्तान की मातृभाषा हो, लेकिन देश के हर कोने में अलग-अलग तरीके से अपनी सुविधानुसार इसे बोला जाता है। खराब उच्चारण की वजह से कई बार हिंदी जानने वालों को ही एक दूसरे की बोली समझने में खासी मेहनत करनी पड़ती है। ‘जबान संभाल के’ दर्शकों को हंसा-हंसा के लोट-पोट कर देने वाला यह धारावाहिक दूरदर्शन पर 1993 से 94 के बीच प्रसारित हुआ था। इस दौरान इसकी 54 कड़ियां प्रसारित की गईं। उस समय यह टेलीविजन पर दिखाया जाने वाला सबसे लोकप्रिय धारावाहिक बन गया था, जिसे दर्शकों द्वारा खूब पसंद किया गया था। इसने न केवल एक इतिहास बनाया, बल्कि दूरदर्शन के लिए सबसे अधिक रेवेन्यू भी बटोरा। उस वक्त डीडी मेट्रो की कमाई का बड़ा हिस्सा इसके जरिये ही आता था। यह शो लोगों को इतना पसंद आया कि कुछ सालों के बाद ही इसे 52 और नई कड़ियों के साथ प्रसारित किया गया। डीडी मेट्रो के बाद इसने होम टीवी के जरिये छोटे पर्दे पर दोबारा दस्तक दी और अपने मकसद यानी लोगों का मनोरंजन करने में खासा कामयाब भी रहा। कहानी एक ऐसे संस्थान की थी, जहां अलग-अलग भागों से लोग हिन्दी सीखने आते थे। इस दौरान होने वाले मजाेदार किस्सों को शो में दिखाया गया था। इसमें कोई दो राय नहीं कि विविधता में एकता वाली संस्कृति को पेश करने में शो की टीम काफी हद तक कामयाब भी हुई। शो में पंकज कपूर ने हिन्दी टीचर मोहन भारती का किरदार निभाया था और शोभा खोटे ने प्रिंसिपल मिस दीक्षित का। हाल ही में शेमारू ने इस धारावाहिक की वीसीडी और डीवीडी बाजार में उतारी हैं। कंपनी को पूरी उम्मीद है कि छोटे पर्दे पर धमाल मचाने के बाद इसकी वीसीडी और डीवीडी भी खूब बिकेंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फिर बोलेगा इंडिया ‘जबान संभाल के’