class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इसे आतंकवाद विरोधी दिवस बनाएं

अमेरिका में टावर टूटते हैं तो आतंकवादी कृत्य होता है। तालिबान अब अंग्रेजी टाइप के स्कूलों को उड़ाता है तब इसे आतंकी कार्यवाही और तालिबानों को आतंकवादी कहते हैं। इसी तरह जब बामियान में भगवान बुद्ध की पहाड़ों पर तराशी मूर्ति को तोपों से या बारूद से ध्वस्त किया जाता है तब हम इसे आतंकवादी घटना कहते हैं। इसी तर्ज पर जब 06 दिसम्बर 1992 में जब एक मंदिर/मस्जिद (आराधना स्थल) को हजारों लोगों द्वारा प्रतिष्ठित व संविधान समर्थित संगठनों के नेताओं की उपस्थित और मार्ग दर्शन में ध्वस्त किया जाता है तो इसे शौर्य दिवस या स्याह दिवस के रूप में न मनाकर धर्मनिरपेक्षतावादी आतंकवाद प्रतिरोध दिवस के रूप में क्यों नहीं मनाते?
ठाकुर सोहन सिंह भदौरिया, बीकानेर (राजस्थान)

इस राह के धोखे
भूमिगत पैदल पथ को लोग जुए के अड्डे की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं, ऊपर से हमारे मंत्री पी चिदंबरम जी कहते हैं कि लोग सड़क पार करते वक्त भूमिगत पैदल पथ का प्रयोग क्यों नहीं करते। सच कहे तो मंत्री जी हमें तो डर लगता है इन पैदल पथ वाले रास्तों से जाने में शाम 6 बजे से सुबह तक इसमें स्मैकिये और जुआरियों का बसेरा होता है।
माधवी चन्द्रा, भीमराव अम्बेडकर कॉलेज, दिल्ली

जनसंख्या नियंत्रण
जनसंख्या नियंत्रण पर केन्द्र सरकार का गंभीर नहीं होना चिन्ता का विषय है। जनसंख्या बढ़ती जा रही है, संसाधन कम होते जा रहे हैं। अशिक्षा, गरीबी, भुखमरी, बेरोजगारी आदि गंभीर समस्याओं के बारे में सरकार असंवेदनशील दिखाई देती है। जिस प्रकार चीन ने अपनी बढ़ती जनसंख्या पर नियंत्रण के लिए बिना राजनैतिक लाभ-हानि देखे कदम उठाए, उसी तरह हमें भी देश के हित को ध्यान में रखते हुए ठोस उपाय करने चाहिए।
दर्शनलाल, 9 बी, एकता एन्क्लेव, पीरागढ़ी, नई दिल्ली-87

सबसे सस्ती रेल
बसों का किराया दिल्ली में 15 रुपये है, मैट्रो का आखिरी किराया 30 रुपये है। लेकिन रेलगाड़ी में पालम रेलवे स्टेशन से दिल्ली रेलवे स्टेशन तक सिर्फ चार रुपये ही लगते हैं। रेलवे इसे दिल्ली में ज्यादा महत्व दे ताकि गरीब पब्लिक सस्ता सफर कर सके।
श्याम सुन्दर, 1814 संजय बस्ती, तिमारपुर, दिल्ली।

गंदे पानी का बिल
अब घरों में पानी का बढ़ा हुआ बिल आएगा। दिल्ली सरकार एक तरफ तो लोगों को गंदा पानी दे रही है दूसरी तरफ उसकी भी कीमत बढ़ा रही है। क्या बिल बढ़ाने के बाद सरकार पानी की गुणवत्ता में सुधार करेगी। पानी का बिल न जमा होने की बात तो की जाती है लेकिन बिल का वितरण कभी ठीक से नहीं होता और डुप्लीकेट कॉपी के लिए न जाने कितने चक्कर काटने पड़ते हैं।
रामेश्वर रजोरा, नई दिल्ली

हिमालय सुरक्षा को नीति बने
हिमालय के पर्यावरण का असर पूरे विश्व पर पड़ रहा है। हिमालय क्षेत्र में वाहनों की संख्या पर भी रोक लगनी चाहिए व साइकिल का प्रयोग अधिक किया जाना चाहिए।
कालिका प्रसाद सेमवाल, रुद्रप्रयाग

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इसे आतंकवाद विरोधी दिवस बनाएं