अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इंडेक्स फंड

अकसर कई बार लोगों के मन में एक्टिव और पैसिव निवेश को लेकर असमंजस की स्थिति रहती है। एक्टिवली मैनेज्ड फंड इंडेक्स की तुलना में बेहतर प्रदर्शन करते हैं। एक्टिवली मैनेज्ड फंड में फंड मैनेजर अपनी विशेषज्ञता का इस्तेमाल पोर्टफोलियो में स्टॉक के चयन के लिए करता है। डायवर्सिफाइड इक्विटी फंड इस श्रेणी में आते हैं। वहीं कई लोग निवेश के लिए पैसिव एप्रोच का सहारा लेते हैं। इसे इंडेक्सिंग कहा जाता है।

इसे इंडेक्स फंड में निवेश कर प्राप्त किया जा सकता है। इंडेक्स फंड एक इक्विटी म्यूचुअल फंड होता है जो स्टॉक में निवेश करता है और कई स्टॉक इंडेक्स से मिलकर बनता है जैसे बीएसई सेंसेक्स या एनएसई निफ्टी। इसके परिणामस्वरूप इंडेक्स फंड में निवेश के लिए आपको किसी विशेषज्ञ की सलाह नहीं लेनी पड़ेगी। इनके द्वारा मिलने वाला रिटर्न अंडरलाइंग इंडेक्स द्वारा उत्पादित किए जाने वाले फंड से करीब से जुड़ा होता है।

एक्टिवली मैनेजमेंट फंड की तुलना में इंडेक्स फंड की फीस कम होती है। इंडेक्स फंड के सबक्लास, एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) की कीमत इंडेक्स फंड की तुलना में कम होती है। हालांकि यह कहना जल्दबाजी होगा कि एक्टिवली मैनेज्ड फंड और पैसिव फंड में किसी एक में निवेश करना बेहतर रहेगा। इसमें कोई दोराय नहीं कि किसी तयशुदा सीमा में कुछ एक्टिवली मैनेज्ड फंड, इंडेक्स की तुलना में बेहतर प्रदर्शन करते हैं। जहां तक इंडेक्स फंड की बात है तो यह सुरक्षित और दीर्घावधि में एक बेहतर विकल्प है। ऐसे में बेहतर यही होगा कि आप किसी भी फंड में निवेश करने से पहले पूरी तफ्तीश कर लें और देख लें कि आपकी जरूरतों के अनुरूप कौन सा फंड सही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इंडेक्स फंड