इस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस का मुआवजा - इस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस का मुआवजा DA Image
20 फरवरी, 2020|1:37|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस का मुआवजा

 इस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस वे के लिए जमीन अधिग्रहण के बदले किसानों को ग्रेटर नोएडा के बराबर मुआवजा दिया जा रहा है। मुआवजा पाकर दादरी- ग्रेटर नोएडा क्षेत्र के 39 गांवों के लगभग डेढ़ हजार किसान लखपति बन जाएंगे। मुआवजा बांटने के लिए जिला प्रशासन ने गांवों में ही कैम्प लगाकर मुआवजा बांटना शुरू कर दिया है।

अमरपुर ,लडपुरा व सिरसा गांव में कैम्प लगाकर मुआवजा बांटा जा रहा है। अगले सात दिनों में जिन गांवों में मुआवजा बांटा जाएगा इसके लिए कार्यक्रम तय किया जा रहा है। शुक्रवार को अटाई मुरादपुर में कैम्प लगाया जाएगा। एडीएमएल से मिली जानकारी के अनुसार गांवों में कैम्प लगाकर मुआवजा देने का मकसद किसानों को किसी तरह की कोई परेशानी न हो। कैम्प में एडीएम एलए के साथ सम्बंधित गांव का लेखपाल अमीन, तहसीलदार आदि मौजूद रहते हैं। जिससें की किसान की जमीन से संबंधित कोई समस्या हो तो उसे मौके पर ही निस्तारण करके मुआवजा दे दिया जाए। गांवों में कैम्प लगाकर मुआवजा बाटे जाने से किसान को फाइल बनवाने के लिए चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। घर बैठे ही मुआवजा मिल जाएगा। इस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस वे जनपद गौतमबुद्धनगर के 39 गावों से होकर गुजरेगा । जिस में इन गावों के सेकड़ों किसानों की जमीन अधिग्रहण की जा रही है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:इस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस का मुआवजा