अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नेपाल से बिहार का सम्पर्क टूटने के कगार पर : प्रेम

नेपाल से बिहार का सम्पर्क टूटने के कगार पर है। केन्द्र सरकार नेपाल को बिहार से जोड़ने वाली दोनों महत्वपूर्ण मार्गो का न तो निर्माण कर रही है और न मरम्मत। स्थिति यह है कि इन सड़कों की स्थिति जर्जर हो गई है।

पथ निर्माण मंत्री डा. प्रेम कुमार ने केन्द्र सरकार के रवैये पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा है कि एनएचएआई के अधिकारियों को इस ओर शीघ्र  ध्यान देने का फिर आग्रह किया गया है। अगर ऐसा नहीं हुआ तो मामला गंभीर हो जाएगा। नेपाल जाने वाली गाड़ियों को भारी मुश्किल का सामना करना पड़ेगा।

डा. कुमार ने कहा कि 67 किमी लम्बाई वाले पिपराकोठी-रक्सौल राजमार्ग (एनएच- 28 ए) और 14 किमी. लम्बाई वाले फारबिसगंज-जोगबनी राजमार्ग (एनएच-57 ए) को फोर लेनिंग करने के लिए चार वर्ष पहले एनएचएआई को सौप दिया गया था।

पर अब तक नेपाल को जोड़ने वाले इन दोनों राजमार्गो का न तो फोर लेनिंग किया गया और न हीं इनके मरम्मत के लिए राशि दी जा रही है। इससे सूबे का विकास तो बाधित है ही, देश की छवि भी धूमिल हो रही है। इसके लिए राज्य सरकार कई बार केन्द्र सरकार और एनएचएआई से आग्रह कर चुकी है पर कार्रवाई नदारद है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नेपाल से बिहार का सम्पर्क टूटने के कगार पर : प्रेम