class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बुलंदशहर में नहीं घुस पाए वरुण गांधी

सांसद वरुण गांधी के नेतृत्व में जुलूस और धरना-प्रदर्शन करने के भाजपाइयों के दावे बुधवार को फुस्स हो गए। प्रशासन की सतर्कता के कारण जहां दौरा रद्द हो गया, वहीं भाजपाइयों का आक्रोश भी बढ़ गया। नारेबाजी और प्रदर्शन के बीच जिला कार्यालय पर जनसभा कर औपचारिकता पूरी की गई। भारी पुलिस बल को देखते हुए कार्यालय गेट पर ही पुतला दहन और सिटी मजिस्ट्रेट को ज्ञापन सौंपना पड़ा।

जिला भाजपा कार्यालय पर सुबह से ही वरिष्ठ नेता, पदाधिकारी और कार्यकर्ता इकट्ठा होने शुरू हो गए। स्थिति को भांपते हुए पुलिस प्रशासन ने कार्यालय के गेट पर फोर्स तैनात कर दी। दोपहर 12 बजे के बाद वरुण गांधी के आने की सरगर्मियां शुरू होते अधिकारियों ने भी कार्यालय पर पहुंच मोर्चा संभाल लिया।

एसएसपी ने बुधवार की सुबह ही अपने अधीनस्थों को सख्त आदेश दिए थे कि शांति व्यवस्था को बनाए रखने में किसी भी प्रकार की ढिलाई नहीं बरती जाए। उधर, पश्चिमी उत्तर प्रदेश की संगठन मंत्री लज्जा रानी ने कहा कि लड़कियों से छेड़छाड़ का विरोध करने पर विधायक और उनके समर्थकों ने भवतोष गुजर्र के घर पर हमला कर दिया।

बसपा सरकार में गुंडाराज चल रहा है। उसके प्रतिनिधि गुंडों को साथ दे रहे हैं। इस मौके पर  पूर्व राजस्व मंत्री वीरेन्द्र सिंह सिरोही, पूर्व माध्यमिक शिक्षा मंत्री महेन्द्र सिंह यादव, जिला संयोजक दुलीचंद सैनी, दादरी के पूर्व विधायक नबाव सिंह नागर, डॉ. महेश शर्मा, गौतमबुद्धनगर के जिलाध्यक्ष रकम सिंह भाटी, नोएडा के जिलाध्यक्ष योगेश सिंह, सुंदर सिंह तेवतिया, उर्मिला राजपूत ने विचार रखे।

सभा के बाद भाजपाइयों ने कार्यालय के बाहर सिटी मजिस्ट्रेट को ज्ञापन सौंपा। इसमें राष्ट्रपति से सदर विधायक को गिरफ्तार कर एनएसए लगाने, विधानसभा से बर्खास्त करने और मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग उठाई गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बुलंदशहर में नहीं घुस पाए वरुण गांधी