class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हिसार में खुलेगा पशु विज्ञान विश्वविद्यालय

हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने कहा है कि पशुपालन और पशुधन नस्ल सुधार के लिए हिसार में एक पशु विज्ञान विश्वविद्यालय की स्थापना की जाएगी। इसके अलावा, गौधन विकास एवं नस्ल सुधार के लिए प्रदेश में एक गौ आयोग का गठन भी किया गया है।

मुख्यमंत्री बुधवार को यहां हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय में आयोजित उच्चकोटि की मुर्राह भैंसों के प्रोत्साहन राशि वितरण समारोह में पशुपालक एवं किसानों को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने प्रदेशभर से आए मुर्राह भैंस पालकों को 10 करोड़ 80 लाख रुपए की प्रोत्साहन राशि वितरित की।

यह राशि कुल 17,654 मुर्राह भैंस पालकों को वितरित की गई। प्रदेश की सर्वाधिक दूध देने वाली मुर्राह भैंसों में फरीदाबाद जिला के गांव नीमका के पशुपालक धर्मपाल को मुर्राह भैंस से 25.67 लीटर दूध प्राप्त करने पर प्रथम पुरस्कार, जिला भिवानी के मिसरी गांव के पशुपालक राम किशन को 25.60 लीटर दूध और तीसरा कुरुक्षेत्र जिला के पिंडारसी गांव के सुशील कुमार को 25.27 लीटर दूध उत्पादन के लिए पुरस्कृत किया गया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने 25 लीटर या अधिक दूध देने वाली मुर्राह भैंस के उत्पादकों को दी जाने वाली 15000 रुपये की प्रोत्साहन राशि में बढ़ोतरी करते हुए इसे 25,000 रुपये करने की घोषणा की और कहा कि अगले वर्ष वह दुगनी संख्या में यहां पहुंचे। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर आयोजित एक पशुपालन प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया।

हुड्डा ने कहा कि हरियाणा सरकार ने अपने पिछले कार्यकाल में पशुपालन को प्रोत्साहन दिया है और पशुपालन एवं डेयरी विभाग के बजट में पांच गुणा की बढ़ोतरी की गई है। पशु पालन को स्वरोजगार के लिए के बेहतरीन जरिया बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि विभाग द्वारा 7000 युवाओं को स्वरोजगार के उद्देश्य से पशुओं के स्वास्थ्य एवं रखरखाव संबंधी प्रशिक्षण दिया जायेगा ताकि वे पशुपालन को स्वरोजगार के रूप में अपना सकें और बेहतर आमदनी के साधन जुटा सकें।

उन्होंने पशुपालकों से आह्वान किया कि वे मुर्राह भैंस पालन को प्रदेश में एक जनचेतना कार्यक्रम का रूप दें और अच्छी नस्ल की मुर्राह भैंसों को तैयार करें। समारोह की अध्यक्षता करते हुए कृषि, पशुपालन एवं डेयरिंग मंत्री परमवीर सिंह ने मुख्यमंत्री को किसानों का हितैषी बताते हुए कहा कि जब से हुड्डा ने प्रदेश की बागडोर संभाली है, तब से किसान वर्ग खुशहाल हुआ है और उनके कार्यकाल में पशुओं और पशुपालकों को अभूतपूर्व प्रोत्साहन मिला है।

उन्होंने कहा कि पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए पशुपालन एवं डेयरी विभाग का बजट जोकि 10 से 11 करोड़ रुपये था, उसे बढ़ाकर लगभग 100 करोड़ रुपये किया गया है। उन्होंने कहा कि पशुधन को बढ़ावा देने तथा बेहतर प्रजनन सुविधाएं देने के लिए विभाग पूर्णत: कटिबद्ध है।

इस कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री ने बरवाला के विधायक रामनिवास घोड़ेला के निवास पर गए और कार्यकर्ताओं से मिले। यहां से जिला कांग्रेस भवन कार्यालय में पहुंचे। यहां पर जिला ग्रामीण अध्यक्ष छत्रपाल ने जिला कांग्रेस की तरफ से मुख्यमंत्री का अभिनंदन किया।

यहां मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने नेताओं व मतदाता के बीच दूरी कम की है। यही वजह है कि आज आम आदमी किसी भी नेता के समक्ष अपनी बात या समस्या रखने में झिझकता नहीं और इस कारण प्रदेश के आम और गरीब से गरीब व्यक्ति की समस्याएं भी सरकार के सम्मुख आ जाती है तथा सरकार इन समस्याओं को दूर करती है। जिस कारण प्रदेश की राजनीति में एक सौहार्दपूर्ण माहौल कायम हुआ है।

हिसार जिला कांग्रेस कमेटी के प्रधान प्रो. छत्रपाल ने मुख्यमंत्री हरियाणा का  जिला कांग्रेस कमेटी एवं कार्यकर्ताओं की ओर से दोबारा मुख्यमंत्री बनने उपरांत पहली बार हिसार कांग्रेस भवन में पहुंचने पर अभिनंदन किया और सम्मान सूचक पगड़ी एवं स्मृति चिह्न् भेंट किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हिसार में खुलेगा पशु विज्ञान विश्वविद्यालय