class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रों की गिरफ्तारी से हैदराबाद में तनाव

पृथक तेलंगाना राज्य की मांग को लेकर जारी विरोध को दबाने के लिए पुलिस द्वारा उस्मानिया विश्वविद्यालय के कई छात्रों और शिक्षकों को गिरफ्तार करने और छात्रों के एक अन्य समूह की विधानसभा के घेराव की कोशिश के बीच हैदराबाद में स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है।

करीब 3,000 सशस्त्र पुलिसकर्मियों ने विश्वविद्यालय परिसर में भूख हड़ताल पर बैठे छात्रों को गिरफ्तार कर लिया है। अर्धसैनिक बलों सहित पुलिसकर्मियों ने परिसर के सभी हॉस्टलों को जबरदस्ती खाली कराया और सभी छात्रों को हिरासत में ले लिया। जब छात्रों और अध्यापकों ने विरोध किया तो पुलिस ने उन पर बल प्रयोग भी किया।

पुलिस उपायुक्त शेख मोहम्मद इकबाल का कहना है, ''निषेधाज्ञा आदेश लागू है और छात्रों का जमा होना गैरकानूनी है इसलिए हमने उन्हें गिरफ्तार किया है।'' ये गिरफ्तारियां गुरुवार को छात्रों के विधानसभा तक जुलूस निकालने की योजनाओं को नाकाम करने के लिए की गईं। पुलिस अधिकारी ने कहा, ''रैली के लिए कोई अनुमति नहीं ली गई थी। हमारी अपनी आशंकाएं हैं। असामाजिक तत्व गड़बड़ी पैदा कर सकते हैं।''

पुलिस ने परिसर में घटनाक्रम को कवर कर रहे पत्रकारों की पिटाई की। पिछले तीन दिनों में परिसर में पत्रकारों के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की यह दूसरी घटना है। मीडियाकर्मियों ने पुलिस के खिलाफ नारे लगाकर विरोध प्रदर्शन किया।

पुलिस ने उस्मानिया विश्विद्यालय में प्रवेश करने की कोशिश कर रहे विधान परिषकद के सदस्य चुक्का रमैया को भी गिरफ्तार किया है। कड़ी सुरक्षा वाले विधानसभा भवन में भी उस वक्त तनाव की स्थिति बन गई जब अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने विधानसभा और आसपास के परिषद के भवनों का घेराव करने की कोशिश की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छात्रों की गिरफ्तारी से हैदराबाद में तनाव