class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकिग के लिए आरबीआई की नई योजना

ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकिग के लिए आरबीआई की नई योजना

भारतीय रिजर्व बैंक ने ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को बैंकिग प्रणाली से जोड़ने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र की बैंकों के साथ मिलकर एक विशेष अभियान शुरू किया है।

रिजर्व बैंक के क्षेत्रीय निदेशक बिहार-झारखंड के.के.वोहरा ने बुधवार को समस्तीपुर जिले के समर्था गांव में बैंकिग सुविधाओं की शुरूआत करते हुए कहा कि इस गांव बैंकिग सुविधाओं के मामले में मॉडल गांव के रूप में विकसित किया जाएगा। रिजर्व बैंक इस वर्ष अपनी 75वीं वर्षगांठ मना रहा है और इस मौके पर आरबीआई सार्वजनिक बैंको के साथ मिलकर ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को बैंकिग सुविधा उपलब्ध कराने के लिए एक विशेष अभियान शुरू किया है।

रिजर्व बैंक की कार्यप्रणाली एवं भूमिका की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि आम आदमी के जीवन में गुणात्मक परिवर्तन और स्वावलंबी बनाना बैंक का मुख्य उद्देश्य है। इस विशेष अभियान के तहत आईबीआई के निर्देश पर समस्तीपुर क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक द्वारा जिले के समर्था गांव को बैंकिग सुविधा उपलब्ध कराने के लिए "मॉडल गांव" के रूप में विकसित किया जा रहा है जिसका कार्य आज से प्रारंभ कर दिया गया है। बिहार के बांका, पश्चिम चंपारण, समस्तीपुर समेत सात जिलों से एक-एक गांव को बैंको द्वारा गोद लेकर बैंकिग सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।


 इस मौके पर रिजर्व बैंक के उप महाप्रबंधक एस.यादव, जदयू सांसद अश्वमेद्य देवी, माकपा विधायक रामदेव वर्मा, जिलाधिकारी असंगवा चुवा आव, भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) बिहार के मुख्य महाप्रबंधक आर. वेकटाचलम, महाप्रबंधक जे.एन. मिश्रा, समस्तीपुर क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक के अध्यक्ष वी.के.रथ, जिला सूचना एवं जनसंपर्क पदाधिकारी दिलीप कुमार देव और जिला वाणिज्य एवं उद्योग परिषद के अध्यक्ष ओम प्रकाश खेमका समेत विभिन्न बैंकों के वरीय अधिकारी मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकिग के लिए आरबीआई की नई योजना