class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मरते दम तक नहीं छोड़ंगा राजनीति: कल्याण

पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह ने कहा कि अभी उनका राजनीति से सन्यास लेने का मूड नहीं है, वह मरते दम तक राजनीति नहीं छोड़ेंगे। अतरौली में जनसभा के बाद वह नया झण्डा, नया घर और एजेंडा घोषित करेंगे।
कल्याण सिंह डिबाई में जनसभा के बाद मीडिया से रूबरू हुए।

उन्होंने कहा कि लिब्रहान आयोग की रिपोर्ट राजनीति से प्रेरित है। पूर्व प्रधानमंत्री नरसिंहा राव को क्लीन चिट देना तथा पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को लपेटना कांग्रेस की रिपोर्ट है। आयोग की रिपोर्ट झूठ का पुलिंदा है, जिस पर सरकार ने 8 करोड़ रुपये खर्च किए हैं।

राममंदिर के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि 1528 में बाबर ने मंदिर तोड़कर विवादित ढांचा बनाया और करोड़ों हिन्दुओं को पीढ़ी दर पीढ़ी आग में जलने को मजबूर कर दिया। यहां 1934 के बाद से आज तक नमाज नहीं पढ़ी गई तो वह मस्जिद कहां रही। 6 दिसम्बर 1992 को मैने अधिकारियों को निर्देश दिया था कि चार लाख कारसेवकों पर लाठियां चलाओ, अश्रु गैस छोड़ो, पानी की धार छोड़ो, मगर गोली नहीं चलाना। मैने नरसंहार छोड़ विवादित ढांचा गिरवाया।

उन्होंने कहा कि भगवान राम हिन्दुओं और मुसलमान दोनों के पूर्वज थे। अयोध्या में रामलला का मंदिर बनना चाहिए। हिन्दुओं के साथ मुसलमानों को भी कारसेवा करनी चाहिए। मैं तो हिन्दुत्व और राष्ट्रवाद का पुजारी हूं। विनय कटियार द्वारा रामलला दर्शन के आमंत्रण पर उन्होंने कहा कि वह अयोध्या जरूर जाएंगे, जब भी जाऊंगा मीडिया को  एक सप्ताह पहले बताकर जाऊंगा।

नई पार्टी के गठन पर फिर कहा कि अतरौली में जनसभा के बाद ही वह पार्टी का नाम, झंडा और एजेंडे की घोषणा करेंगे। राहुल गांधी के किसी मुसलमान को प्रधानमंत्री बनाने की बात पर कहा कि यह कांग्रेस का फंडा है। प्रधानमंत्री कोई भी योग्य व्यक्ति बन सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मरते दम तक नहीं छोड़ंगा राजनीति: कल्याण