class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुत्र-हत्या के आरोप में मां को आजीवन कारावास

बिहार में पश्चिम चंपारण जिले की सत्र अदालत ने बेटे की हत्या के आरोप में सौतेली मां को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है।
 
अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश उमेश चन्द्र श्रीवास्तव ने मामले में दोनों पक्षों की दलीले सुनने के बाद जिले के सिकटा थाना क्षेत्र के भवानीपुर गांव निवासी कयासा खातून को भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत उसके पुत्र निजामुद्दीन की हत्या दोषी करार देते हुए सोमवार को यह सजा सुनाई। साथ ही अदालत ने दोषी पर पांच हजार रुपए का आर्थिक दंड भी लगाया।
 
आरोप के अनुसार, 10 जनवरी 1991 को कयासा ने अपने पति शेख नथू की पहली पत्नी के नौ वर्षीय पुत्र निजामुद्दीन को बहलाफुसलाकर नदी किनारे ने जाने के बाद उसकी हत्या कर दी थी। बाद में मृतक के पिता और दोषी के पति शेख नथू ने अपनी पत्नी के खिलाफ संबंधित थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पुत्र-हत्या के आरोप में मां को आजीवन कारावास