DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बारातियों की आतिशबाजी से 15 बैंड वालों की आंखें खराब

शादी में आतिशबाजी की चिनगारियों से 15 बैंड वालों की आंखें खराब हो गई। उनकी आंखें लाल और चेहरा भी बुरी तरह से सूज गया है। पराबैगनी किरणों के प्रभाव से सात लोगों की दोनों आंखें और आठ की एक आंख प्रभावित है। गंभीर हालत को देखते हुए आंखों में पट्टी बांधी गई है। पीड़ित आंख नहीं खोल पा रहे हैं। इनमें से अधिकांश उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों से हैं।

सोमवार देर शाम टीएचडीसी बंजारावाला से बारात पथरी बाग स्थित ब्लैसिंग फार्म गई थी। अल्ताफ बैंड वाले बारात में बैंड बजा रहे थे। इस दौरान आतिशबाजी से निकली चिनगारी बैंड वालों की आंखों में घुस गई। उस वक्त तो बैंडवालों ने इसे सामान्य तौर पर लिया।

बारात से निपटकर सभी बैंड वाले हनुमान चौक स्थित अपने कमरों में आ गए। रात करीब 12 बजे एकाएक बैंड वालों की आंखों में जलन के साथ अंधेरा छाने लगा। उन्होंने इसकी जानकारी बैंड संचालक मोहम्मद साबिर को दी। सभी बैंड वालों को दून हॉस्पिटल पहुंचाया गया।

आपातकालीन कक्ष में प्राथमिक उपचार के बाद मरीज वापस घर चले गए। दो घंटे बाद दोबारा से पीड़ित बैंड वालों की आंखों में तेज दर्द और जलन होने लगी। सुबह 4 बजे फिर मरीजों को दून अस्पताल पहुंचाया गया। दवा डालने के कुछ घंटे बाद फिर से मरीजों ने तेज दर्द, चुभन और जलन की शिकायत की।

सुबह 11 बजे तीसरी बार मरीजों को दून अस्पताल लाया गया। जिन बैंड वालों की आंखें आतिशबाजी से खराब हुई हैं, उनमें शुब्बा (26),इमरान (42) दोनो सहारनपुर, इस्लाम (50), अनीष (22) दोनों मुज्जफरनगर, रौनक (35) मुरादाबाद, औरंगजेब (33) अमरोहा, शरीक अहमद (22), श्यामू (22), मोहम्मद अकरम (26), मोहम्मद निजामुद्दीन ( 26), मोहम्मद प्यारे (27) शहनाज (25), शब्बू (21 ) सभी निवासी बिजनौर और देहरादून के मोनू (22) और मास्टर राजा (35) शामिल हैं।

पीड़ितों का उपचार कर रहे दून अस्पताल के नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. बीसी रमोला ने बताया पटाखों से निकलने वाली पराबैगनी किरणों ने पीड़ितों के कार्निया को डैमेज कर दिया है। इससे आंखों पर प्रभाव पड़ा है। आंखों को ठीक होने में 24 से 72 घंटे लगेंगे। उन्होंने बताया पराबैंगनी किरणें छह घंटे बाद प्रभाव डालती हैं। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बारातियों की आतिशबाजी से 15 बैंड वालों की आंखें खराब