अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली राष्ट्रमंडल बैटन माल्टा पहुंची

दिल्ली राष्ट्रमंडल बैटन माल्टा पहुंची

दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों की बैटन ने सोमवार को माल्टा पहुंचने के साथ ही यूरोप अपना सफर पूरा कर लिया। बैटन अब अफ्रीका के देशों में करीब ग्यारह हजार किलोमीटर का रास्ता तय करेगी।

माल्टा के स्लीमा के कास्टल शहर के सेक्रेड हार्ट स्कूल में बैटन का आयोजन किया गया। इस रिले में हजारों की संख्या में बच्चों ने हिस्सा लेकर राष्ट्रमंडल खेलों के आयोजन के लिए दिल्ली शहर को शुभकामनाएं भेजी। पेमब्रोक जूनियर लिसेमुम में वहां के खिलाड़ियों और स्कूल के बच्चों ने माल्टा के राष्ट्रमंडल खेल के प्रतीक चिन्ह का निर्माण किया था।

दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों की यह बैटन 29 अक्टूबर को बकिंघम पैलेस (लंदन) से महारानी एलिजाबेथ और भारत की राष्ट्रपति प्रतिभा देवी पाटिल मौजूदगी में रवाना हुई थी और यह राष्ट्रमंडल से जुड़े 70 देशों से गुजरते हुए इन खेलों के मेजबान देश भारत में अगले साल तीन अक्टूबर को दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम पहुंचेगी। यह बैटन एक लाख 90 हजार किलोमीटर का रास्ता तय करेगी और पाकिस्तान से वाघा सीमा के जरिए भारत में प्रवेश करेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिल्ली राष्ट्रमंडल बैटन माल्टा पहुंची