class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्कूलों में शुरू हुआ एक्स्ट्रा क्लासेज का दौर

बोर्ड एग्जाम की उलटी गिनती शुरू होते ही स्कूलों में पढ़ाई की रफ्तार तेज हो गई है। स्टूडेंट्स की विषयगत समस्याओं के समाधान के लिए स्कूलों में एक्स्ट्रा क्लासेज का दौर शुरू हो गया है। इन क्लासेज में बच्चों की समस्याएं दूर करने के अलावा बच्चों को बोर्ड एग्जाम में अच्छे अंक लाने के टिप्स भी दिए जा रहे हैं। वहीं पढ़ाई में कमजोर छात्रों पर स्कूल अधिक ध्यान दे रहे हैं।


ऐसे बच्चों के लिए स्कूलों में अलग से रीमेडियल क्लासेज लगाई जा रही हैं। दसवीं व बारहवीं के बोर्ड एग्जाम की तारीख घोषित होते ही स्कूलों का ध्यान पाठय़क्रम को जल्द से जल्द करने पर लग गया है। जिससे कोर्स रिवीजन की क्लासेज बिना देर किए शुरू की जा सके। 3 मार्च से बोर्ड परीक्षाएं शुरू होने के कारण बच्चों के पास तैयारी के लिए 84 दिन शेष बचे हैं। इसी के चलते स्कूलों के साथ पैरेंट्स भी बच्चों पर पूरा ध्यान दे रहे हैं। बच्चाे भी एक्स्ट्रा क्लासेज व कोचिंग में अधिक समय दे रहे हैं।


केडीबी पब्लिक स्कूल की वाइस प्रिंसिपल निवेदिता राणा ने बताया कि बोर्ड एग्जाम नजदीक होने व बच्चों की सब्जैक्टिव दिक्कतों को दूर करने के लिए एक्स्ट्रा क्लासेज लगाई जा रही है। स्कूल की ओर से बच्चों का सब्जैक्ट वाइज मटेरियल भी दिया जा रहा है। जिसको स्कूल टीचरों ने रिसर्च करके तैयार किया गया है। रायन इंटरनेशनल स्कूल की प्रिंसिपल अंजू शर्मा ने बताया कि स्कूल में कोर्स के रिवीजन के लिए एक्स्ट्रा क्लासेज चल रही है। वहीं रीमेडियल क्लासेज में कमजोर बच्चों की समस्याओं का समाधान किया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्कूलों में शुरू हुआ एक्स्ट्रा क्लासेज का दौर