अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पर्सनल नहीं बिजनेस पोस्ट ज्यादा है डाक घरों में

हमारे और आपके अपनों तक हमारा संदेश पहुंचाने का काम करने वाले पोस्ट ऑफिस में तमाम नए संचार के साधनों के आने के बाद भी ट्रैफिक कम नहीं हुआ है। पोस्ट ऑफिस के कर्मचारियों का कहना है कि लोगों के पर्सनल मेल में कमी जरूर आयी है मगर उससे ज्यादा तेजी से बिजनेस मेल बढ़ा है।


गाजियाबाद हेड पोस्ट ऑफिस के पोस्ट मास्टर सुभाशिष गुप्ता कहते हैं। आज से करीब 15 साल पहले जब डाकिया डाक बांटने निकलता था तो उसकी सइकिल पर कम से कम चार थैलियां तो चिट्ठियों की होती ही थी मगर अब चिट्ठियां कम हो गई हैं। अब डाकिए की साइकिल पर आपको बिजनेस मेल की चीजें मिलेंगी। अब डाकिया ज्यादातर पोस्ट से आने वाले अखबार और मैगजीन बांटता है। उनका कहना है कि पर्सनल मेल में जितनी तेजी से कमी आयी है उससे कहीं तेजी से बिजनेस मेल में बढ़ोत्तरी हुई है। उन्होंने बताया कि आज की डेट में पोस्ट ऑफिस में बिजनेस मेल का कमरा भरा ही रहता है।


पोस्ट ऑफिस के पुराने कर्मचारियों का कहना है कि अब तो लोग कुशल क्षेम की चिट्ठी कम ही भेजते हैं। अगर कोई पर्सनल चिट्ठी भेजने आता है तो वह कोई कागजात होता है या फिर राखी। अब पोस्ट से ज्यादातर बिल जाते हैं या फिर बीमा के नोटिफिकेशन इसके अलावा अब स्पीड पोस्ट और रजिस्टर्ड पोस्ट ही जाते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पर्सनल नहीं बिजनेस पोस्ट ज्यादा है डाक घरों में