DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ओबामा चाहते हैं उदारवादी तालिबान से वार्ता

अमेरिका के राष्ट्रपति बराक आेबामा का मानना है कि तालिबान के उदारवादी नेताआें से बातचीत का रास्ता अपनाकर अफगानिस्तान समस्या के निदान की दिशा में आगे बढ़ा जा सकता है। ‘न्यूयार्क टाइम्स’ में प्रकाशित एक साक्षात्कार में आेबामा ने कहा है कि इराक में अमेरिकी सेना की सफलता का बहुत कुछ श्रेय उन इस्लामी कट्टरवादी नेताआें के साथ बढ़ी नजदीकी को है, जो किन्हीं कारणों से अल कायदा से अलग हो गए थे। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान और पाकिस्तान में भी इस तरह की पहल से कुछ हद तक सफलता हासिल हो सकती है। हालांकि उनका यह भी मानना है कि अफगानिस्तान में कुछ यादा जटिल स्थिति है। ड्ढr आेबामा की अगुवाई वाले अमेरिकी प्रशासन ने पिछले माह अफगानिस्तान में 17,000 और सैनिकों की तैनाती का निर्णय लिया है। अमेरिका का राष्ट्रपति बनने से पहले आेबामा का कहना था कि अफगानिस्तान में शांति स्थापित करने के लिए वह उदारवादी तालिबान नेताआें के साथ बातचीत करने के पक्ष में हैं। अफगानिस्तान में 2001 में अमेरिकी सेना के तालिबान शासन को समाप्त करने के बाद से वहां हिंसा का दौर थमा नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ओबामा चाहते हैं उदारवादी तालिबान से वार्ता