class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महामहिम संभालेंगी कुंभ की कमान!

हरिद्वार कुंभ की कमान अब राज्यपाल संभालेंगी। वे जनवरी में मुख्य स्नान शुरू होने से पहले एक बार फिर हरिद्वार का दौरा करेंगी। साथ ही, सुरक्षा, खाद्य और स्वास्थ्य के मुद्दों पर केंद्रीय मंत्रियों से    बात करेंगी।
कुंभ कार्यो से जुड़े तीन वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों को भी उत्तराखंड बुलाने की तैयारी हो रही है।

बीते सप्ताह राज्यपाल मार्ग्रेट अल्वा ने हरिद्वार में कुंभ से जुड़े कामों की समीक्षा की। राज्यपाल कुंभ कार्यों के लिए जिस तेजी की उम्मीद कर रही हैं, वैसी अभी दिख नहीं रही है। राज्य सरकार ज्यादातर मामलों में केंद्र के सिर ठीकरा फोड़ रही है।

अब, कुंभ के लिए प्रदेश की राज्यपाल उत्तराखंड और केंद्र के लिए सेतु बनेंगी। राज्यपाल की जिम्मेदारी संभालने से पूर्व वे केंद्रीय राजनीति का सक्रिय हिस्सा रही हैं। कांग्रेस के दिग्गजों से उनके व्यक्तिगत संबंध हैं। इन संबंधों का कुंभ में लाभ लेने की तैयारी है।

सूत्रों के अनुसार, राज्यपाल मार्गेट आल्वा ने कुंभ में स्वास्थ्य सेवाओं के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नबी आजाद से बात की है। सुरक्षा को लेकर राज्यपाल इस कोशिश में हैं कि केंद्रीय गृह मंत्री पी.चिदंबरम हरिद्वार आकर सुरक्षा पहलुओं की समीक्षा करें और राज्य को अतिरिक्त मदद भी मुहैया कराएं।

खाद्य आपूर्ति से जुड़े मामलों में शरद पवार से संपर्क किया जाएगा। राज्यपाल चाह रही हैं कि 13 जनवरी को कुंभ के पहले स्नान से पूर्व इन तीनों मंत्रियों को दून या हरिद्वार बुलाकर बैठक कराई जाए।

इस बीच राज्यपाल  मार्ग्रेट अल्वा एक बार फिर हरिद्वार जाने की तैयारी में हैं। वे वहां कुंभ कार्यो का निरीक्षण करेंगी। उन्होंने अधिकारियों को एक माह का टाइम दिया है। इस लिहाज से उनकी अगली हरिद्वार यात्रा जनवरी के प्रथम सप्ताह में संभावित है।

बताया गया है कि राज्यपाल 330 करोड़ के विशेष बजट के मामले को भी केंद्र के सामने रखेंगी क्योंकि केंद्र ने कुंभ के लिए 400 करोड़ का विशेष बजट देकर 330 करोड़ के विशेष बजट को रोक लिया है। इस प्रकार कुंभ के लिए प्रदेश सरकार के हाथ में वस्तुत 70 करोड़ ही आए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महामहिम संभालेंगी कुंभ की कमान!