class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नेशनल हाईवे 58 पर चिकित्सा सुविधाओं का अभाव

दिल्ली में कॉमनवेल्थ गेम्स की तैयारियां भले ही जोर-शोर चल रही हैं, लेकिन दिल्ली-देहरादून नेशनल हाईवे 58 पर स्थित सरकारी चिकित्सालयों की ओर प्रशासन का कोई ध्यान नहीं है। सभी चिकित्सालयों में सुविधाओं का अभाव है।


दिल्ली में अगले वर्ष कॉमनवेल्थ गेम्स प्रारम्भ हो रहे हैं। गेम्स को लेकर खासी तैयारियां शुरू हो गई है, लेकिन दिल्ली के नजदीक पर्यटन स्थल हरिद्वार को जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग 58 पर आने वाले सेलानियों के लिए कोई भी चिकित्सा सेवाएं अभी तक उपलब्ध नही हैं। दरअसल दिल्ली के नजदीक का पर्यटन स्थल हरिद्वार है और विदेशी पर्यटकों का पसंदीदा स्थल भी माना जाता है। इसलिए जो भी विदेशी इस राष्ट्रीय राजमार्ग से हरिद्वार, मसूरी या तीर्थ स्थानों पर जाएंगे यदि किसी कारणवश विदेशी पर्यटक की रास्ते में तबीयत बिगड जाती है तो गाजियाबाद से लेकर मेरठ तक हाईवे पर स्थित किसी भी सरकारी अस्पताल में वीआईपी ट्रीटमेंट की सुविधा नहीं है। सूत्र बतातें है कि  सरकार व प्रशासन ने इस ओर कोई भी योजना अभीतक तैयार नहीं की है। जिसकारण किसी भी हादसे के बाद लोगों को केवल निजी अस्पतालों का ही सहारा लेना पड़ेगा।


बतातें चले कि मोदीनगर में राष्ट्रीय राजमार्ग 58 पर दो सरकारी अस्पताल है। पहला सौंदा रोड के पास स्थित ईएसआई अस्पताल दूसरा तहसील मुख्यालय के पास स्थित श्यामा प्रसाद मुखर्जी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र है। दोनों ही चिकित्सालयों में चिकित्सा संबधी सुविधाओं का अभाव है। जबकि ईएसआई अस्पताल सौ बेड का अस्पताल है। लोगों का मानना है कि यदि प्रशासन इन दोनों अस्पतालों में सुविधाएं उपलब्ध करा दे तो शायद राष्ट्रीय राजमार्ग पर दोनों कार्यक्रमों के तहत होने वाली चिकित्सा संबंधी परेशानी से किसी हद तक राहत मिल सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नेशनल हाईवे 58 पर चिकित्सा सुविधाओं का अभाव