class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टैक्स चुकाने में सरकारी महकमा फिसड्डी

आम जनता करे तो गुनाह और वही गुनाह  सरकारी महकमों के आला अफ सर करें तो सब ठीक? नगर निगम के संसाधनों के बदले टैक्स चुकाने के मामले में अक्सर ऐसा ही हो रहा है,ऐसे एक-दो महकमा नहीं,बल्कि केन्द्र व राज्य सरकार के दजर्नों ऐसे कार्यालय हैं,जहां पर पानी,सीवर लाइन की सुविधाएं मौजूद तो हैं लेनि सालों साल से निगम को टैक्स नहीं देते? कुछ महकमा तो ऐसा है ,जहां निगम अफसरों ने आज तक आरोपित टैक्स का कोई नोटिस ही नहीं भेजा,तो ऐसे मे उन महकमों का दोष कम माना जा सकता है लेकिन अधिकांश ऐसे भी हैं जिनके पास निगम का नोटिस तो तामील हुई लेकिन उसे ठंडे बस्ते में डाल दिया गया। पिछले साल की तरह ही अब आपरेशन कु बेर के तहत प्राइवेट सेक्टर के पुराने व मोटे बकाएदारों के खिलाफ नोटिस से लेकर डोर-टू-डोर कलेक्शन के प्रयास चल रहे हैं।


इसी क ड़ी में राज्य सरकार के लगभग 70 कार्यालयों व संस्थानों पर नए सिरे से टैक्स आरोपित कर नोटिस दिया जा चुका है। इन सत्तर में कलेक्ट्रेट,जीडीए ,जलनिगम,वाणिज्य कर का पांच मंजिला कार्यालय,पावर कारपोरेशन,पीएसी बटालियन,आरटीओ जैसे धनाढ़्य कार्यालय भी हैं। इन सभी पर मिलाकर करोड़ों में बकाया है। कलेक्ट्रेट कैंपस पर लगे टैक्स को रिवाइज्इड करने को कहा गया है जिस पर निगम का टैक्स विभाग काम कर रहा है।  
पिछले दिनों नगरायुक्त की ओर से बकाएदार महकमों के लखनऊ बैठे आला अफसरों को पत्र भेजकर जनहित में टैक्स की धनराशि जमा कराने की गुजारिश की गई थी। लेकिन अब तक उसका खूब असर नहीं दिख रहा। इससे निगम का टैक्स महकमा अब मुश्किल में हैं कि आखिर अब क्या किया जाए?

पहली बार पॉलीटेक्निक से मिला 13 लाख
सरकारी महकमों पर टैक्स आरोपित करने के मामले में टैक्स सुपरिटेंडेट सुधीर शर्मा ने बताया कि अथक प्रयास के बाद पहली बार राजकीय पोलीटेक्निक ने इस वित्तीय वर्ष में अब तक रिकॉर्ड 13 लाख जमा कर चुका है। शनिवार को सात लाख का चेक जमा कराया गया। उसपर लगभग 40 लाख बकाया है। शर्मा ने बताया कि शनिवार को ही जलनिगम ने पांच लाख में से दो लाख का चेक दे दिया है। शेष के लिए समय की मांग की गई है। उन्होंने बताया कि शास्त्रीनगर स्थित राजकीय पॉलिटैक्निक द्वारा पहली बार इतनी धनराशि टैक्स के मद में जमा कराया गया,जो एक रिकार्ड है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:टैक्स चुकाने में सरकारी महकमा फिसड्डी