अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तेलंगाना के गठन की लोस में उठी मांग

तेलंगाना के गठन की लोस में उठी मांग

लोकसभा में सोमवार को विपक्षी भाजपा ने आंध्र प्रदेश में पृथक तेलंगाना राज्य के गठन के लिए तत्काल विधेयक लाने की मांग की।

भाजपा की उप नेता सुषमा स्वराज ने शून्यकाल के दौरान यह मुद्दा उठाते हुए कहा कि आंध्र प्रदेश में पृथक तेलांगना राज्य के गठन कि लिए आंदोलन ने तीव्र रूप ले लिया है और चौदह लोगों ने आत्महत्या की हैं जिनमें सभी उम्रवर्ग के लोग शामिल हैं। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी वर्षों से तेलंगाना राज्य के गठन की मांग का समर्थन कर रही है। भाजपा नेतृत्व वाली राजग सरकार के कार्यकाल के दौरान देश में तीन नए राज्यों झारखंड, उत्तराखंड और छत्तीसगढ़ का गठन किया गया था। राजग सरकार तेलांगना राज्य का भी गठन करती लेकिन उस वक्त गठबंधन सरकार में शामिल तेलगू देशम पार्टी इसकी पक्षधर नहीं थी, इसलिए विधानसभा से इस बारे में प्रस्ताव पारित नहीं हुआ।

सुषमा ने कहा कि 2004 में कांग्रेस ने टीआरएस से समझौता किया था और तेलांगना के लिए प्रणव मुखर्जी की अध्यक्षता में एक समूह का भी गठन किया गया था। बाद में टीआरएस ने कांग्रेस से नाता तोड़ लिया। कांग्रेस ने 2009 में तेलंगाना के लिए वादा किया। केन्द्र में संप्रग की सरकार बने लगभग छह महीने से ज्यादा हो गए लेकिन इस बारे में कोई हरकत नजर नहीं आ रही है।

भाजपा नेता ने सरकार से पृथक तेलंगाना राज्य के गठन के लिए तत्काल विधेयक लाने की मांग की और कहा कि अगर विधेयक आता है तो इसके पारित होने में कोई दिक्कत नहीं होगी। उन्होंने कहा कि इससे पृथक राज्य के गठन की लोगों की वर्षों से चली आ रही प्रतीक्षा समाप्त होगी और आंदोलन को लेकर जा रही जिंदगियां बचाई जा सकेंगी। सुषमा स्वराज की बात का जनता दल यू के शरद यादव ने भी समर्थन किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तेलंगाना के गठन की लोस में उठी मांग