अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तेलंगाना में बंद से जनजीवन प्रभावित

तेलंगाना में बंद से जनजीवन प्रभावित

पृथक तेलंगाना राज्य की मांग पर तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के 48 घंटों के बंद के दौरान दूसरे दिन सोमवार को भी पूरे तेलंगाना क्षेत्र में जनजीवन बुरी तरह प्रभावित रहा।

टीआरएस प्रमुख के चंद्रशेखर राव का आमरण अनशन लगातार नौवें दिन भी जारी रहा। हैदराबाद और तेलंगाना के अन्य नौ जिलों में तनाव की स्थिति की बरकरार है। बंद की वजह से लगातार दूसरे दिन आंध्र प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम की बसें नहीं चलीं। तेलंगाना क्षेत्र में बंद समर्थकों ने राजमार्गों और सड़कों पर जाम लगा रखा है।

हैदराबाद और तेलंगाना के दूसरे जिलों में सभी शैक्षणिक संस्थान, दुकानें, कोराबारी संस्थान, सिनेमा हॉल और पेट्रोल पंप बंद रहे। जिससे लोगों को खासी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। उस्मानिया विश्वविद्यालय में सोमवार को भी तनाव बरकरार रहा। यहां त्वरित कार्रवाई बल के जवान और सशस्त्र पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं ताकि छात्रों को विधानसभा तक जुलूस निकालने से रोका जा सके।

विश्वविद्यालय के आर्ट्स कॉलेज और छात्रावास से छात्रों को बाहर निकालने के लिए पुलिस वहां दाखिल भी हो गई। ये छात्र विधानसभा तक जुलूस लिकालने की तैयारी में थे। इनकी मांग हैं कि विधानसभा में जल्द से जल्द अलग तेलंगाना राज्य से जुड़ा प्रस्ताव पारित किया जाए।

छात्रों और शिक्षकों से संगठन ‘ज्वाइंट एक्शन कमिटी’ ने पुलिस की इस कार्रवाई का विरोध किया और मांग की है कि सरकार विश्वविद्यालय परिसर से सभी सुरक्षा बलों को हटा ले। तेलंगाना में विरोध प्रदर्शन व्यापक रूप ले चुका है। यहां पांच लोगों ने आत्महत्या भी कर ली। रविवार को बंद का पहले दिन रविवार को तेलंगाना क्षेत्र पर बुरा असर पड़ा था।

उधर, हैदराबाद के निजाम आयुर्विज्ञान संस्थान (निम्स) में भर्ती राव का अनशन नौंवे दिन भी जारी रहा। चिकित्सकों का कहना है कि राव को तेज बुखार है वह काफी कमजोर हो चुके हैं। राज्य के मुख्यमंत्री के रोसैया रविवार रात राव का हाल जानने निम्स पहुंचे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तेलंगाना में बंद से जनजीवन प्रभावित