अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खेल भी कोई बच्चों का खेल नहीं

खेल हमारी जिन्दगी का अहम हिस्सा हैं और हम सब किसी न किसी रूप में इनसे जुड़े हुए भी हैं। लेकिन एक बात तो आप भी मानेंगे कि खेल भी कोई बच्चों का खेल नहीं। फिर चाहे आप जिस भी खेल को चाहते हों, चाहे आप युवराज सिंह के छक्के और ब्रेट ली का चिन म्यूजिक पसंद करते हों या रोनाल्डो के गोल, या आपको दीलिप टिर्की, प्रभजोत की हॉकी स्टिक के आसपास गेंद को घूमते हुए देखना पसंद हो। हो सकता है आप गोल्फ को टागर वुड्स व ज्योति रंधावा के नाम से जानते हों, ये भी हो सकता है कि किसी के लिए बिल्यर्ड का मतलब गीत सेठी व पंकज आडवाणी हों, यह भी हो सकता है कि सानिया मिर्जा, रोजर फेडरर, रफाल नडाल पर ही किसी की टेनिस की समझ पूरी हो जाती हो। हो सकता है बैडमिंटन का मतलब किसी के लिए सिर्फ साइना नेहवाल हो और विजेन्दर, अखिल का पंच ही बॉक्सिंग में सब कुछ हो। निशानेबाजी की दुनिया भले ही राज्यवर्धन सिंह राठौर, अभिनव बिंद्रा, समरेश जंग व जसपाल राणा पर खत्म हो जाती हो और रेसलिंग का मतलब सिर्फ खली हो। लेकिन खेलों का जूनन ऐसा होता है कि किसी के लिए वह खेल जब शुरू होता है तो समय थम जाता है और उस खेल के खिदमतगार उसके भगवान बन जाते हैं। यही वह जूनून है जो हमें उस खास खेल से जोड़ता है, फिर चाहे उसे खेलने का जूनून हो या देखनेभर का। यह जूनून कभी कभी इबादत की हद तक पहुंच जाता है, शायद यही कारण है कि आज भारत में क्रिकेट को धर्म और सचिन तेंदुलकर को भगवान माना जाता है।

 

ये भी सच है कि हमारे देश में क्रिकेट के अलावा किसी अन्य खेल के नायकों को कम ही पहचान मिलती है, जबकि क्रिकेटरों को बच्चा-बच्चा जानता है। सानिया मिर्जा और साइना नेहवाल की बात कुछ और है, क्योंकि जहां साइना नेहवाल के नाम कई अवार्ड हैं वहीं सानिया मिर्जा के साथ ग्लैमर जुड़ा हुआ है।

 

आप इन खेलों और इन खेलों के दिग्गजों के बारे में क्या राय रखते हैं? आपको उनकी कौन सी अदा पसंद आती है। क्या सौरभ गांगुली का लॉर्डस के मैदान में जीत के बाद टीशर्ट लहराना आपको पसंद है या सानिया मिर्जा की नाक की बाली या विंबलडन में खिताबी जीत के बाद नडाल का कोर्ट पर लेट जाना। आपके पसंदीदा खिलाड़ी की मुस्कान, उसके चलने व बोलने का अंदाज, उसके बाल या उसका कोई खास अंदाज जो किसी और के पास नहीं है। आप अपने पसंदीदा खिलाड़ी, उसकी पसंद-नापसंद, उसका खास अंदाज जो भी पसंद करते हों उसे हमारे साथ बांटिए और दुनिया को उस खासियत से रूबरू कराएं, दुनिया आपके अनुभव व राय से लाभ लेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खेल भी कोई बच्चों का खेल नहीं
दूसरा टी-20 अंतरराष्ट्रीय
भारत188/4(20.0)
vs
दक्षिण अफ्रीका189/4(18.4)
दक्षिण अफ्रीका ने भारत को 6 विकटों से हराया
Wed, 21 Feb 2018 09:30 PM IST
दूसरा टी-20 अंतरराष्ट्रीय
भारत188/4(20.0)
vs
दक्षिण अफ्रीका189/4(18.4)
दक्षिण अफ्रीका ने भारत को 6 विकटों से हराया
Wed, 21 Feb 2018 09:30 PM IST
तीसरा टी-20 अंतरराष्ट्रीय
दक्षिण अफ्रीका
vs
भारत
न्यूलैन्ड्स, केपटाउन
Sat, 24 Feb 2018 09:30 PM IST