class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माओवादियों की हड़ताल से नेपाल में जनजीवन ठप

माओवादियों की हड़ताल से नेपाल में जनजीवन ठप

नेपाल के पश्चिमी इलाके में बेघर लोगों के कब्जे से जमीन मुक्त कराने के अभियान में सुरक्षा बलों के साथ संघर्ष में छह लोगों की मौत के बाद माओवादी पार्टी की आम हड़ताल से रविवार को राजधानी काठमांडू और अन्य जिलों में जनजीवन ठप हो गया।

सुबह की कड़ी ठंड के बावजूद सैकड़ों माओवादी समर्थक रविवार को राजधानी की सड़कों पर उतर पड़े और कयिलाली जिले में हुई हिंसा के विरोध में सड़कों पर यातायात रोक दिया। राजधानी में शिक्षण संस्थाएं, बाजार और दुकानें बंद हैं। काठमांडू घाटी से बाहर भी राजमार्गो पर सन्नाटा छाए होने की खबरें मिली हैं।

प्रदर्शनकारी कयिलाली के बलिया गांव के दुधेझारी जंगलों से कब्जा हटाने की कार्रवाई पर हुए हिंसक संघर्ष में मारे गए लोगों के परिजनों के लिए मुआवजे की मांग कर रहे हैं। माओवादियों ने गृहमंत्री भीम रावल और घटना में शामिल पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की भी मांग की।

अवैध कब्जेदारों को माओवादियों का समर्थन हासिल है। अवैध कब्जेदारों के संघर्ष के लिए तैयार होने और दर्जनों वाहनों को क्षतिग्रस्त करने तथा वनरक्षकों की एक चौकी को आग लगाने के बाद सरकार ने हजारों पुलिसकर्मियों को कयिलाली में तैनात किया।

कयिलाली के जिला अधिकारी कृष्णा पुडेल ने बताया कि रविवार को स्थिति नियंत्रण में है और स्थिति पर चर्चा के लिए माओवादियों सहित अन्य सभी पार्टियों की एक बैठक दोपहर बाद बुलाई गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:माओवादियों की हड़ताल से नेपाल में जनजीवन ठप