अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

श्रीलंका को रौंद हिंदुस्तान बना नंबर वन

श्रीलंका को रौंद हिंदुस्तान बना नंबर वन

श्रीलंका के खिलाफ ब्रेबॉर्न स्टेडियम में खेले गए तीसरे और आखिरी टेस्ट मैच के पांचवें दिन रविवार को भारतीय क्रिकेट टीम ने ऐतिहासिक जीत दर्ज करते हुए न सिर्फ श्रृंखला अपने नाम की बल्कि टेस्ट क्रिकेट की शीर्ष टीम भी बन गई।

खेल के आखिरी दिन भारत ने मेहमान टीम को 309 रनों पर समेट दिया। इसके साथ ही उसने पारी और 24 रनों से शानदार जीत दर्ज की। इस जीत के साथ ही भारत ने इस श्रृंखला को 2-0 से अपने नाम कर लिया। इस श्रृंखला को जीतने के साथ ही भारतीय टीम 124 अंकों के साथ आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में नंबर एक की टीम बन गई। 122 अंकों के साथ दक्षिण अफ्रीका दूसरी वरीयता वाली टीम है। वहीं श्रीलंका इस हार की वजह से चौथे स्थान पर खिसक गया।

पांचवें दिन जहीर खान की अगुवाई में भारतीय गेंदबाजों ने महज 35 मिनट के खेल में श्रीलंका टीम को समेट दिया। अंतिम दिन श्रीलंकाई कप्तान कुमार संगकारा पर एक बड़ी जिम्मेदारी थी लेकिन वह दबाव को झेल नहीं सके। जहीर खान की गेंद पर वह चकमा खा गए और भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने कैच लपककर उन्हें पेवेलियन की राह दिखा दी। उन्होंने बेहतरीन 137 रन बनाए। इसके बाद हेराथ भी तीन रनों के स्कोर पर जहीर का शिकार बन गए। जहीर खान ने नुवान कुलसेकरा को अपना पांचवा शिकार बनाया। हरभजन सिंह की गेंद पर मुरलीधरन के आउट होते ही भारतीय टीम ने मैच और श्रृंखला अपने नाम कर ली।

वैसे खेल के चौथे दिन ही श्रीलंका की हार लगभग तय हो गई थी। चौथे दिन मेहमान टीम का कुल स्कोर 29 रन पहुंचा ही था कि हरभजन सिंह ने तिलकरत्ने दिलशान के विकेट के रूप में भारत को पहली सफलता दिलाई थी। पहली पारी में शानदार 109 रन बनाने वाले दिलशान दूसरी पारी में महज 16 रन ही बना सके। इसके बाद परानाविताना एस. श्रीसंत की गेंद पर पगबाधा करार दिए गए। उन्होंने 54 रन बनाए।

परानाविताना के आउट होने के बाद जहीर खान ने माहेला जयवर्धने और थिलन समरवीरा को पेवेलियन की राह दिखा दी थी। जयवर्धने 12 रनों पर आउट हुए जबकि समरवीरा खाता भी नहीं खोल सके। एंजेलो मैथ्यूज भी प्रज्ञान ओझा का शिकार बन गए। टीम को मुश्किल से उबारने के लिए प्रसन्ना जयवर्धने ने भरपूर कोशिश की लेकिन वह ज्यादा देर तक अपने कप्तान का साथ नहीं दे सके। वह 32 रनों के निजी स्कोर पर पेवेलियन लौट गए।

भारत की ओर से दूसरी पारी में जहर खान सबसे सफल गेंदबाज रहे। उन्होंने 72 रन खर्च करके पांच विकेट झटके। हरभजन और ओझा ने भी दो-दो विकेट चटकाए। इस मैच और श्रृंखला में शानदार बल्लेबाजी करने वाले विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग को मैन ऑफ द मैच और मैन ऑफ द सीरीज चुना गया।

उल्लेखनीय है कि खेल के तीसरे दिन भारतीय टीम ने सहवाग के शानदार दोहरे शतक और कप्तान महेंद्र सिंह धौनी के शतक की बदौलत अपनी पहली पारी नौ विकेट पर 726 रन बनाकर घोषित कर दी थी। टेस्ट मैचों किसी पारी में भारत का अब तक यह सर्वाधिक स्कोर है।

भारत की ओर से पहली पारी में सहवाग ने 293 रनों की यादगार पारी खेली थी। धौनी ने 100 रन बनाए थे। द्रविड़ ने 74, वी.वी.एस. लक्ष्मण ने 62 और सचिन तेंदुलकर ने 53 रनों का योगदान दिया था। श्रीलंका ओर से मुथैया मुरलीधरन ने चार और रंगना हेराथ ने तीन विकेट चटकाए थे। मेहमान टीम की पहली पारी 393 रनों पर सिमट गई थी ।

गौरतलब है कि कानपुर में खेले गए श्रृंखला के दूसरे मैच में पारी और 144 रनों से जीत हासिल कर भारतीय क्रिकेट टीम श्रृंखला में पहले ही 1-0 से आगे चल रही थी। अहमदाबाद में खेला गया पहला मैच ड्रा रहा था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:श्रीलंका को रौंद हिंदुस्तान बना नंबर वन