DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पहले छेड़खानी फिर दुष्कर्म का बना आरोपी

गाजियाबाद के डासना जेल में मरने वाला कैदी निर्मल यादव पुत्र लेखराज (26) को जेवर थाने के जेल भेजा गया था।  जेवर थाने में मुकदमा अपराध संख्या 221/08 में आईपीसी की धारा 376, 354 और 504 के मुकदमें पंजीकृत हैं। मामले की सुनवाई करते हुए अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के आदेश पर 7 सितम्बर 09 को डासना जेल भेज गया था। वह तालमपुर, खुर्जा जिला बुलंदशहर का रहने वाला था। इस घटना में शामिल तीन अन्य आरोपी अभी जेल में ही बंद हैं।


3 अगस्त 08 को मंगरौली निवासी राम कुमार (बदला नाम) ने कोतवाली जेवर में शिकायत दर्ज कराई थी कि निर्मल यादव, सोनू, सत्यवान और मनोज नाम युवकों ने उसकी नाबालिग बहन के साथ छेड़खानी और अश्लील हरकतें की है।  पुलिस ने शिकायत के आधार पर आईपीसी की धारा 294 के तहत मामला दर्ज कर लिया था। पुलिस ने 4 अगस्त 08 को उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। अगले दिन 5 अगस्त 08 को उसे जमानत मिल गई।  तत्कालीन दरोगा के.एस तोमर ने जांच के दौरान पाया कि उक्त आरोपियों ने लड़की के साथ दुष्कर्म किया है। मेडिकल रिपोर्ट में भी इस बात की पुष्टि हो गई। इस पर आरोपियों के खिलाफ धारा में परिवर्तन कर 376, 354 और 504 जोड़ा गया। कोर्ट द्वारा वारंट जारी होने के बाद 7 सितम्बर 09 को  पुलिस ने सभी आरोपियों को दोबारा गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।


क्या है जेल अधीक्षक का दावा-
* रात करीब 12.40 बजे निर्मल ने सीने में दर्द की शिकायत की
* जेल अस्पताल ले जाते समय अहाते में गिरकर अचेत हुआ
* रात करीब 12.50 पर उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया
* रात करीब 1.27 मिनट पर उसकी मौत हो गई

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पहले छेड़खानी फिर दुष्कर्म का बना आरोपी