class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोर्ट ने राजखोवा को पुलिस हिरासत में भेजा

कोर्ट ने राजखोवा को पुलिस हिरासत में भेजा

प्रतिबंधित संगठन युनाइटेड लिब्रेशन फ्रंट ऑफ असम (उल्फा) के संस्थापक एवं अध्यक्ष अरविंद राजखोवा, उसके निजी सुरक्षाकर्मी राजा बोरा और उप प्रमुख राजू बरुआ को शनिवार को कामरूप के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने 12 दिनों की पुलिस हिरासत में भेजा दिया है।

इससे पहले राजखोवा और बरुआ ने शुक्रवार को बड़े ही नाटकीय ढंग से अपने परिजनों सहित मेघालय में समर्पण कर दिया था। आत्मसमर्पण करने वालों में राजखोवा और उसकी पत्नी कावेरी व दो बच्चों, राजू बरुआ और उसकी पत्नी और एक बच्चा, राजखोवा का निजी सुरक्षाकर्मी राजा बोरा एवं उल्फा के स्वयंभू विदेश सचिव साशा चौधरी की पत्नी व उनका पुत्र शामिल हैं।

आत्मसमर्पण करने वाले उल्फा नेताओं को हेलीकॉप्टर के जरिए गुवाहाटी लाया गया। इन लोगों को असम पुलिस की चौथी बटालियन के मुख्यालय में रखा गया। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि उल्फा नेताओं की पत्नी और बच्चों को नहीं गिरफ्तार किया गया है और इन लोगों पर कोई आरोप नहीं लगाया गया है।

वरिष्ठ वकील बिजोन महाजन ने कहा, ''राजखोवा और बरुआ के परिजनों ने हमसे कानूनी मदद के लिए संपर्क किया था और हम उन्हें कानूनी सहायता मुहैया करा रहे हैं।'' उल्फा नेताओं से शुक्रवार को मुलाकात करने वाले एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने राजखोवा संतुलित और शांत व्यक्ति बताया है।

असम के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने उल्फा नेताओं के आत्मसमर्पण का स्वागत करते हुए कहा है कि इससे राज्य में स्थायी शांति का मार्ग प्रशस्त होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कोर्ट ने राजखोवा को पुलिस हिरासत में भेजा