DA Image
25 फरवरी, 2020|7:58|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीआरजीएफ के 52 लाख हो गए लैप्स

विकास कार्यो पर खर्च होने वाली बीआरजीएफ की धनराशि डीपीसी गठित न होने से लेप्स हो गई। चमोली जिले में तकरीबन 52 लाख रुपये लेप्स होने पर स्थानीय जन प्रतिनिधियों ने आक्रोश जताया है। अब इस मुद्दे पर सभी पंचायत प्रतिनिधि एकजुट होकर सरकार की खिलाफत करने को भी तैयार हैं।

राज्य सरकार की लापरवाही के कारण अभी तक बीआरजीएफ की धनराशि खर्च करने के लिए डीपीसी का गठन तक नहीं किया गया है। इससे चमोली जिले के विकास के लिए खर्च होने वाले 52 लाख रुपये वापस सरकार के खाते में चले गए हैं। विकास कार्यो पर खर्च होने वाली इस भारी भरकम धनराशि के लेप्स होने पर अब पंचायत प्रतिनिधि आंदोलन की तैयारी में हैं।

  जिला पंचायत सदस्य नंदन सिंह बिष्ट ने कहा कि सरकार की इस लापरवाही के विरोध में जिले के सभी पंचायत प्रतिनिधि जल्द आंदोलन करेंगे। उन्होंने बताया कि 10 दिसंबर को जिले के सभी जिला पंचायत सदस्य, क्षेत्र पंचायत प्रमुख, क्षेत्र पंचायत सदस्य तथा ग्राम पंचायत प्रधानों की बैठक जिला मुख्यालय में होगी। बैठक में सरकार की इस लापरवाही के विरोध में आंदोलन की रणनीति तय की जाएगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:बीआरजीएफ के 52 लाख हो गए लैप्स