class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लाइसेंस शुल्क नहीं देंगे व्यापारी

व्यापार सभा की हंगामेदार बैठक में व्यापारियों ने नगर पालिका द्वारा प्रस्तावित लाइसेंस शुल्क का विरोध किया। व्यापारियों ने लाइसेंस शुल्क न देने का निर्णय लिया है। व्यापारियों ने एफिलिएटिंग यूनिवर्सिटी की मांग को लेकर 15 दिसम्बर के प्रस्तावित बाजार बंद से भी इनकार कर दिया।

काला रोड के एक होटल में शुक्रवार दोपहर आयोजित की गई व्यापार सभा की बैठक हंगामेदार रही। बैठक में उपस्थित व्यापार सभा के पदाधिकारियों एवं अन्य सदस्यों ने नगर पालिका द्वारा प्रस्तावित लाइसेंस शुल्क का जमकर विरोध किया।

व्यापारियों का कहना था कि आसमान छूती महंगाई के कारण नगर पालिका को नया कर लगाने की बजाय व्यापारियों को अन्य करों में भी छूट का प्रावधान करना चाहिए। निर्णय लिया गया कि व्यापार सभा का कोई भी सदस्य लाइसेंस शुल्क नहीं देगा।

एफिलिएटिंग विवि की मांग पर 15 दिसम्बर के बंद को एक तरफा बताते हुए व्यापारियों ने कहा कि सभी व्यापारी धरना प्रदर्शन में सहयोग कर पूर्ण समर्थन करेंगे, लेकिन बाजार बंद नहीं किया जाएगा। निर्णय लिया गया कि भविष्य में बाजार बंद के लिए व्यापार सभा को एक सप्ताह पूर्व सूचना देनी होगी उसके बाद व्यापार सभा कार्यकारिणी बंद पर निर्णय लेगी।

बैठक में उपस्थित व्यापारियों ने पंजाब नेशनल बैक की श्रीनगर शाखा की कार्यप्रणाली पर आक्रोश व्यक्त करते हुए वहां तैनात हैड कैशियर त्रिलेक सिंह नेगी के तत्काल स्थानांतरण की मांग की। बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि आगामी जनवरी माह में व्यापार सभा द्वारा एक निशुल्क स्वास्थ्य शिविर का आयेाजन किया जाएगा एवं आगामी वर्ष से व्यापार सभा का वार्षिक सदस्यता शुल्क 100 रूपये होगा।

बैठक में व्यापार सभा अध्यक्ष सुधीर नैथानी, महामंत्री दिनेश असवाल, भगत सिंह डागर, गजपाल रावत, आशुतोष पंत, जयदेव सडाना, कुंवर सिंह, कुशलानाथ, संजय घिल्डियाल, चंदर कटारिया, प्रीतपाल नरूला, देवेंद्र मणि मिश्र, हरीश कपूर, राजेश जैन, दिनेश जोशी, महिपाल सिंह, जगत सिंह पंवार एवं वकील अहमद आदि ने भाग लिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लाइसेंस शुल्क नहीं देंगे व्यापारी