अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टीटीई और वर्दीधारियों ने नवदम्पति को लूटा

सियालदह एक्सप्रेस में सफर कर रहे नव दम्पति को शुक्रवार को जीआरपी व दो चल टिकट निरीक्षकों ने लूट लिया। लखनऊ निवासी दोनों यात्रियों ने अम्बाला से लेकर लखनऊ तक चार जगह रिपोर्ट लिखाने की कोशिश की लेकिन मामला वर्दीधारियों से सम्बंधित होन के कारण उनकी रिपोर्ट तक  नहीं लिखी गई। बाद में जीआरपी ने नव दम्पति से तहरीर लेकर उनका गुस्सा शांत किया।

ट्रेनों में सफर के दौरान जिन पर सुरक्षा की जिम्मेदारी है वह टिकट चेकिंग कर्मचारियों के साथ मिलकर यात्रियों को ही लूट रहे हैं। शुक्रवार की सुबह अम्बाला स्टेशन पर सियालदह के ईएक्स-1 कोच में टिकट चेकिंग के दौरान दो टिकट निरीक्षकों व जीआरपी सिपाहियों ने लखनऊ निवासी अनिल रस्तोगी की पत्नी रचना रस्तोगी का पर्स छीन लिया। इसमे से एक दीवान का नाम सुखविंदर सिंह है। 

पर्स में 20 हजार रुपए नकद, सोने के जेवर व करीब 50 हजार रुपए की कीमत के दो मोबाइल थे। पर्स लेकर भागे टीटीई व जीआरपी कर्मी जब दूसरे कोच में घुसे तो अनिल ने उनका पीछा किया लेकिन उन्होंने दोनों डिब्बों के बीच लगा शटर गिरा दिया। लूट का शिकार हुए नव दम्पति पठानकोट से लखनऊ आ रहे थे।

अनिल के मुताबिक उन्होंने पहले अम्बाली जीआरपी और फिर सहारनपुर जीआरपी से शिकायत की लेकिन उनकी रिपोर्ट लिखने के बजाय पुलिस कर्मियों ने उल्टे उन्हें ही कटघरे में खड़ा कर दिया। सहरानपुर में डय़ूटी पर तैनात उप निरीक्षक जयवीर सिंह व दीवान ने उनकी तहरीर तो ले ली लेकिन उसकी पावती देने से मना कर दिया। बरेली में जब वह रिपोर्ट लिखाने गए  तो जीआरपी कर्मियों ने लखनऊ जाकर रिपोर्ट लिखाने की नसीहत दी।

शुक्रवार की शाम जब ट्रेन चारबाग पहुँची तो यहाँ भी जीआरपी ने उनकी रिपोर्ट लिखने के बजाय तहरीर लेकर छानबीन करने की बात कही गई। नव दम्पति का आरोप है कि उनके साथ लूटपाट तो हुई वह अलग है लेकिन जीआरपी ने उनका मन दुखाने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:टीटीई और वर्दीधारियों ने नवदम्पति को लूटा