DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिजली,सड़क व सिंचाई रहेगा मुद्दा

बक्सर संसदीय क्षेत्र में इस बार लोक सभा चुनाव में तीन प्रमुख मुद्दे ऐसे उठेंगे जो वोट मांगने जाने वाले प्रत्याशियों की किस्मत में कील ठोंकने के समान होंगी। ये मुद्दे होंगे सड़क, बिजली एवं सिंचाई की समस्या की। विगत दो दशक से सड॥क, बिजली व सिंचाई की समस्या का निदान करने के नाम पर प्रतिनिधि सिर्फ वोट बटोरते रहे। बक्सर-चौसा-कोचस मार्ग, डुमरांव-बिक्रमगंज पथ, बक्सर-धनसोईं मार्ग हो या चौसा गंगा पंप नहर या हो मलई बराज योजना, इन सबों में अपेक्षित सुधार नहीं होने के मुद्दे जनता पुराोर ढंग से उठाएंगी।ड्ढr ड्ढr इटाढ़ी के व्यवसायी हरराम केशरी कहते हैं कि विगत दो दशक से इस सड़क के निर्माण के नाम पर जनप्रतिनिधि वोट बटोरते रहे जबकि जनता के नसीब में सिर्फ गड्ढे ही मिले। जलहरा गांव के राम अवतार सिंह कहते हैं कि बक्सर-चौसा मार्ग की जर्जर स्थिति से क्षेत्र का विकास अवरुद्ध है। नावानगर प्रखंड के गिरिधर बरांव निवासी किसान गणेश प्रसाद सिंह एवं रवीन्द्र सिंह का कहना है कि सड़क, बिजली, सिंचाई की समस्या से वे लोग जूझ रहे हैं। बिक्रमपुर इंगलिश गांव के निवासी मिथिलेश कुमार सिंह कहते हैं कि बिजली का आना तो सपना हो गया है। सुशासन की हवा अब तक यहां नहीं पहुंची। बिजली संकट ने शहरी क्षेत्र में विद्युत संचालित छोटे-बड़े तकनीकी संस्थानों में काम-काज को ठप कर रखा है। शाम होते ही व्यवसायी अपना कारोबार समेटने लगते हैं। नए परिसीमन से कहीं खुशी, कहीं गमड्ढr राजदेव रांन सीवानड्ढr नए परिसीमन के तहत सीवान संसदीय क्षेत्र में काफी उलट फेर हुआ है। हालांकि सीवान संसदीय क्षेत्र मुस्लिम व यादव बाहुल है। लेकिन नए परिसीमन के बाद मतों के समीकरण में अंतर आया है। नए परिसीमन से संसदीय चुनाव में कोई खास अंतर आने वाला नहीं है। सीवान के दो विधानसभा क्षेत्र महाराजगंज व बसंतपुर महाराजगंज संसदीय क्षेत्र में पड़ता था। लेकिन नए परिसीमन में बसंतपुर को गोरयाकोठी व महाराजगंज क्षेत्र में मिला दिया गया है और दोनों विधानसभा क्षेत्रों को महाराजगंज संसदीय क्षेत्र में शामिल कर दिया गया है।ड्ढr ड्ढr नए परिसीमन में मतदाताओं को भी परशानियों का सामना करना पड़ेगा। हालांकि नए परिसीमन से कहीं खुशी है तो कहीं गम। मैरवा के पुरानी बजार के निवासी बच्चा जायसवाल कहते हैं कि मैरवा एक पुराना व महत्वपूर्ण शहर है। लेकिन इस विधानसभा को विलुप्त कर देने से पूर क्षेत्र के मतदाता दुखी हैं। नए दरौंदा विधानसभा क्षेत्र के पिपरा निवासी दिनेश प्रसाद राय कहते हैं कि नए परिसीमन से मैं बहुत खुश हूं। बसंतपुर के किशोर कुमार भी कहते हैं कि उनके बसंतपुर विधानसभा क्षेत्र का नाम खत्म कर दिया गया है जो अच्छा नहीं हुआ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बिजली,सड़क व सिंचाई रहेगा मुद्दा