DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ट्रेनों में आतंकी चुनौतियों से निपटेंगे कमांडों

ट्रेन को हाईजैक करने वाले नक्सलियों और आतंकियों चुनौतियों से निपटने के लिए रेलवे अब रेलवे सुरक्षा विशेष बल (आरपीएसएफ) के जवानों को कमांडो ट्रेनिंग करा रहा है। आरपीएसएफ के 150 जवान आर्मी ट्रेनिंग सेंटर फैजाबाद में प्रशिक्षण ले रहे हैं। आरपीएसएफ की यह कंपनी मेरठ समेत कई इलाकों में रेलवे सुरक्षा के लिए तैनात है। प्रशिक्षण के बाद इन जवानों को सुरक्षा के लिए ट्रेनों में तैनात किया जाएगा।

रेलवे की संपत्ति की सुरक्षा का जिम्मा आरपीएफ और अपराधों के लिए जीआरपी का दायित्व निर्धारित है। साथ ही जिन राज्यों से ट्रेन होकर गुजरती है, वहां के सरकारों की भी जिम्मेदारी होती है। फिलहाल आतंकियों और नक्सलियों के साथ असामाजिक तत्वों से मिल रही चुनौतियों से निपटने के लिए रेलवे सुरक्षा अफसरों ने आरपीएफ-जीआरपी के साथ आरपीएसएफ के ट्रेंड कमांडो को तैनात करने का फैसला किया है।

यह कमांडो न सिर्फ ट्रेनों में सफर के दौरान आकस्मिक चुनौतियों का सामना करेंगे, बल्कि सुरक्षा का पूर्ण दायित्व भी निभाएंगे। आरपीएसएफ गोरखपुर की सेकंड बटालियन की सी कंपनी को कमांडो प्रशिक्षण के लिए चयनित किया गया था। इस कंपनी में 150 जवान शामिल हैं, इनका आर्मी ट्रेनिंग सेंटर डोगरा रेजीमेंट फैजाबाद में तीन दिसंबर से प्रशिक्षण शुरू हो गया।

अभी तक इन जवानों से स्टेशनों पर सुरक्षा बंदोबस्तों में डय़ूटी ली जा रही है। कमांडों ट्रेनिंग के बाद उन्हें ट्रेनों में सुरक्षा के लिए लगाया जाएगा। आरपीएफ कंपनी कमांडर राकेश कुमार यादव के मुताबिक मेरठ में तैनात रेलवे सुरक्षा विशेष बल के जवानों को एक दिसंबर को दिल्ली मुख्यालय के लिए रवाना कर दिया था। वहां से उन्हें आर्मी सेंटर फैजाबाद में कमांडो ट्रेनिंग के लिए भेजा गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ट्रेनों में आतंकी चुनौतियों से निपटेंगे कमांडों