class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कृषि बीमा जरूर कराएं

कृषि कर्ज लेने वालों के लिए कृषि बीमा कराना अनिवार्य है। इसके बावजूद बिहार के बैंक बीमा नहीं करते। बीमा होने के बाद फसल क्षति होने पर कर्ज का 50 प्रतिशत हिस्सा केन्द्र और 50 प्रतिशत राज्य सरकार चुकाती है।

सितम्बर तक बैंकों ने राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना के तहत 1208 करोड़ और 931 करोड़ रुपये का मौसम आधारित फसल बीमा किया है। इस मामले में बिहार देश में नौवें से दूसरे नंबर पर आ गया है। खरीफ मौसम में राज्य के 22 लाख 80 हजार किसान कृषि बीमा से कवर किये गये हैं। 

सभी प्रखंडों में होंगे बैंक

31 दिसम्बर तक राज्य के सभी प्रखंडों में बैंक की कम से कम एक शाखा और एक एटीएम जरूर खुल जायेगा। फिलहाल खलीसराय के पिपरिया, शेखपुरा के घाटकुसुमा और भागलपुर के इस्माइलपुर प्रखंड में किसी भी बैंक की शाखा नहीं है।

पश्चिम चम्पारण के पिपरासी में हाल ही में एक शाखा खोली गयी है। नीतीश सरकार के कार्यकाल की शुरूआत में बिहार के 32 प्रखंड बैंक से वंचित थे। बिहार में कारोबार की संभावना को देखते हुए वाणिज्यिक बैंकों ने मार्च तक 200 नयी शाखाएं खोलने का निर्णय किया है। एसबीआई 850 एटीएम खोलेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कृषि बीमा जरूर कराएं