class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आयकर रिफंड में देरी से करदाता परेशान

आयकर रिफंड में देरी से करदाता परेशान

राष्ट्रीय राजधानी में करदाताओं की सबसे बड़ी शिकायत आयकर वापसी (रिफंड) में देरी है। आयकर ओम्बुडसमैन को मिली विभिन्न शिकायतों में 85 फीसदी शिकायतें रिफंड से जुड़ी हैं। वर्ष 2007-09 के दौरान आईटी ओम्बुडसमैन को कर वापसी की गुमशुदगी और रिफंड लिफाफा खाली मिलने की भी शिकायतें मिली हैं।
   
दिल्ली की आयकर ओम्बुडसमैन बलजीत मटियानी ने कहा कि पिछले तीन साल में कार्यालय में जितनी शिकायतें आयी हैं, उनमें से लगभग 85 फीसदी रिफंड से संबंधित हैं। मटियानी ने कहा कि लगभग तीन से चार शिकायतें रिफंड भेजने के दौरान गुमशुदगी से जुड़ी हैं। जबकि 2008 में एक करदाता ने खाली लिफाफा मिलने की शिकायत दर्ज करायी जिसमें रिफंड रसीद होनी चाहिए थी।
  
इस आईटी ओम्बुडसमैन के अधीन राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली क्षेत्र आता है। इस साल ओम्बुडसमैन द्वारा 1,350 शिकायतें दर्ज की गयीं। इनमें से 1,103 मामलों का निपटान किया गया तथा पांच मामलों में कार्रवाई के आदेश दिये गये।
  
तीन साल के कार्यकाल के बाद सेवानिवृत्त होने वाली मटियानी ने कहा कि अन्य शिकायतें जब्त आभूषणों की प्राप्ति में देरी, नकद राशि, शेयरों में निवेश, संपत्ति और जीवन बीमा निगम तथा किसान विकास पत्र से संबंधित दस्तावेजों एवं बैंक खातों की वापसी में देरी से संबंधित है। इसके अलावा कुछ शिकायतें स्थायी खाता संख्या (पैन) आवंटन में देरी से भी जुड़ी हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आयकर रिफंड में देरी से करदाता परेशान