DA Image
22 जनवरी, 2020|7:44|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जूनियर इंजीनियरों ने बांधी काली पट्टी

समस्याओं का निराकरण न होने से नाराज बिजली विभाग के जूनियर इंजीनियरों ने शुक्रवार को काली पट्टी बांधकर प्रबंधन के प्रति आक्रोश व्यक्त किया। परियोजना गेट पर नारेबाजी के बीच जूनियर इंजीनियरों ने आगाह किया कि प्रबंधन ने यदि शीघ्र उनकी मांगें नहीं मानीं तो 12 दिसम्बर से सभी परियोजनाओं पर धरना-प्रदर्शन किया जायेगा।

परियोजना गेट पर जुटे जूनियर इंजीनियरों को संबोधित करते हुए जूनियर इंजीनियर्स संगठन के अध्यक्ष साहू राम चौहान और सचिव हरिशंकर चौधरी ने आरोप लगाया कि निगम प्रबंधन लम्बे समय से उनकी समस्याओं की अनदेखी कर रहा है।

जूनियर इंजीनियरों की दस सूत्री मांगों में शिफ्ट में कार्य की अवधि कम करने, नौ, 14 एवं 19 वर्षो पर समयबद्ध पदोन्नत वेतनमान दिये जाने, संवर्ग का वेतनमान अन्य समकक्ष संवर्गो की तरह उच्चीकृत करते हुए एक जनवरी 1996 से 6500 से 11 हजार रुपये करने एवं उसके अनुसार ग्रेड पे निर्धारित करने, उत्पादन भत्ता एवं प्रोत्साहन भत्तों की गणना नये वेतनमान के आधार पर करने, स्थानान्तरण नीति 2009 में संशोधन करने, संगठन के पदाधिकारियों का दो वर्ष तक तबादला न करने के साथ नयी परियोजनाओं में अवर अभियंता के पद सृजित किये जाने की मांग शामिल हैं।

पाली में कार्य की बढ़ायी गयी समयावधि को वापस लेकर रोटेशन प्रणाली द्वारा तीन से चार वर्ष किये जाने की मांग भी संगठन ने उठायी। इस दौरान जूनियर इंजीनियर उत्पादन निगम शाखा के प्रान्तीय महासचिव जीवी पटेल और प्रचार सचिव जर्नादन पांडेय आदि पदाधिकारी मौजूद थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:जूनियर इंजीनियरों ने बांधी काली पट्टी