class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नेपाल का विश्व को संदेश, माउंट एवरेस्ट पर की बैठक

नेपाल का विश्व को संदेश, माउंट एवरेस्ट पर की बैठक

जलवायु परिवर्तन पर बातचीत के लिए संयुक्त राष्ट्र की एक महत्वपूर्ण शिखरवार्ता से पहले नेपाली सरकार ने शुक्रवार को माउंट एवरेस्ट के आधार शिविर पर कैबिनेट की बैठक की और हिमालय में ग्लोबल वार्मिंग के प्रभावों की ओर ध्यान खींचा।

प्रधानमंत्री माधव कुमार नेपाल और उनके 23 कैबिनेट सहयोगियों ने हिमालय क्षेत्र में 17,200 फुट ऊंचाई पर बैठक के लिए हेलीकॉप्टर से काला पत्थर तक की यात्रा की।

नेपाल ने अपनी कैबिनेट बैठक के जरिए औद्योगिक देशों का ध्यान इस ओर खींचा है कि उनकी गतिविधियां किस तरह ग्लोबल वार्मिंग के लिए जिम्मेदार हैं, जिसके कारण हिमालय क्षेत्र में घातक प्रभाव देखे जा सकते हैं।

हिमालयी ग्लेशियर कुछ दशकों में गायब हो सकते हैं, जिससे एशिया के बड़े हिस्से को सूखे का सामना करना पड़ सकता है, जहां लाखों लोग हिमालय से निकलने वाली नदियों पर निर्भर हैं।

पर्यावरण मंत्री ठाकुर शर्मा ने बैठक से पहले कहा था, ग्लोबल वार्मिंग के कारण ग्लेशियर पिघल रहे हैं, जो एक गंभीर मुद्दा बन गया है और हम चाहते हैं कि इस पर विश्व का ध्यान खींचा जाए।

बैठक में नेपाल के कोपेनहेगन जलवायु परिवर्तन शिखरवार्ता में प्रस्तुत किये जाने वाले एजेंडा का समर्थन किया है। अधिकारियों के अनुसार बैठक में गौरीशंकर आपिनापा क्षेत्र को नया संरक्षण क्षेत्र घोषित किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नेपाल का विश्व को संदेश, माउंट एवरेस्ट पर की बैठक