DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उल्फा की हिंसक प्रतिक्रया का संदेह, असम में बढ़ी चौकसी

उल्फा की हिंसक प्रतिक्रया का संदेह, असम में बढ़ी चौकसी

प्रतिबंधित संगठन यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम (उल्फा) की संभावित हिंसक प्रतिक्रिया बीच असम में चौकसी बढ़ा दी गई है। उल्फा अपने अध्यक्ष अरविंद राजखोवा के शांति प्रक्रिया में शामिल होने का विरोध कर रहा है।

इस बीच खबर यह है कि राजखोवा ने मेघालय में अपने 10 साथियों के साथ हाथ हथियार डाल दिए हैं।

असम सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा कि संवेदनशील इलाकों में तेल भंडारों, पटरियों, पुलों और बाजारों की सुरक्षा के लिए सेना, पुलिस और अर्धसैनिक बलों के जवानों को तैनात किया गया है।

राज्य के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने कहा, ''आप नहीं जानते कि किसी भी समय कुछ भी हो सकता है। कुछ प्रतिक्रिया हो सकती है। हम ऐसी किसी आशंका से इंकार नहीं कर रहे हैं।''

उल्फा का स्वयंभू कमांडर-इन-चीफ परेश बरुआ ने गुरुवार को स्थानीय मीडिया से कहा था, ''हर कोई बातचीत के लिए स्वतंत्र है।  परंतु मेरा रुख स्पष्ट है कि मैं कोई समझौता नहीं करुंगा। हम संप्रभुता की मुख्य मांग पर अभी तक कायम हैं और लड़ाई जारी रखी जाएगी।''

उधर, शुक्रवार सुबह उत्तरी असम के उदलगुरी जिले में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में प्रतिबंधित संगठन नेशनल डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ बोडोलैंड (एनडीएफबी)के दो आतंकवादी मारे गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:उल्फा की हिंसक प्रतिक्रया का संदेह, असम में बढ़ी चौकसी