class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गन्ने को लेकर अब चीनी मिलों में शुरू हुई प्राइसवार

चीनी मिलों में प्राइसवार शुरु हो गई। देवबंद चीनी मिल ने गन्ने रेट में 5 रुपये का इजाफा कर हलचल मचा दी है। इसके बाद सभी निजी चीनी मिलों ने 5 रुपये की वृद्वि कर किसानों को 205 से 210 रुपये कुंतल गन्ने का रेट देने का ऐलान कर दिया है, जबकि नानौता, सरसावा और निगम की बीडवी चीनी मिलों ने भी शासन से 205-210 के भाव के लिए प्रार्थना पत्र भेजकर स्वीकृति की मांग की। यानि उक्त चीनी मिलों में किसानों को अभी भी 190 और 195 का रेट मिल रहा है। जिला गन्ना अधिकारी दुर्गादास का कहना है कि, जल्द ही उक्त तीनों चीनी मिलों में भी यही भाव हो जाएगा।

किसानों के सवा माह चले गन्ना आंदोलन के बाद बामुश्किल चीनी मिलों ने एक बार 15 तो एक बार 10 रुपये की वृद्वि की थी। इसके बाद गन्ने का रेट 165-170 से 190-195 पर पहुंच गया। इसके बाद भी किसानों ने गन्ना नहीं दिया तो निजी चीनी मिलों ने प्राइसवार शुरु करते हुए 10 रुपये की वृद्वि करते हुए गन्ने का भाव 200 से 205 पर पहुंचा दिया। इसके बाद देवबंद चीनी मिल ने 5 रुपये की और वृद्वि करते हुए 205 से 210 पर पहुंचा दिया है।

इसके बाद सभी 5 निजी चीनी मिलों ने भी 5 रुपये की वृद्वि कर दी है। लेकिन इसके बावजूद भी चीनी मिलों के सामने अभी नो-केन की समस्या पैदा हो रही है। हालात यह बयां कर रहे है कि, अगले कुछ दिनों में चीनी मिलों में जबरदस्त प्राइसवार की शुरुआत होगी। यानि किसानों को अब आंदोलन करने के जरुरत नहीं है।

चीनी मिलों में अब प्राइसवार की जंग शुरु हो चुकी है। दरअसल, इसबार भी गन्ने का रकबा पिछले वर्ष से 20 प्रतिशत घटने के कारण किसानों के सामने चीनी मिलों की क्षमता से काफी कम गन्ना है। गन्ना विभाग की माने तो चीनी मिले लगातार चल गई तो दो माह के समय में पूरे गन्ने की पेराई कर देगी।

यही कारण है कि, चीनी मिलों ने अभी से ही प्राइसवार की शुरुआत कर एक दूसरे के क्षेत्र से गन्ने की खरीद भी शुरु कर दी है। जिला गन्ना अधिकारी दुर्गादास भी चीनी मिलों में शुरु हुई प्राइसवार को स्वीकार कर रहे है। उनका कहना है कि, गन्ने का भाव 210 से भी ऊपर जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गन्ने को लेकर अब चीनी मिलों में शुरू हुई प्राइसवार