अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुरली के खिलाफ आक्रमण ही सर्वश्रेष्ठ रक्षण है: सहवाग

मुरली के खिलाफ आक्रमण ही सर्वश्रेष्ठ रक्षण है: सहवाग

मौजूदा टेस्ट श्रृंखला में मुथैया मुरलीधरन की फजीहत करने वाले वीरेंद्र सहवाग का कहना है कि दुनिया के इस सबसे खतरनाक आफ स्पिनर के खिलाफ आक्रमण ही रक्षण का सर्वोत्तम उपाय है। तीसरे टेस्ट के दूसरे दिन 239 गेंद में नाबाद 284 रन बनाने वाले सहवाग ने मुरली की जमकर बखिया उधेड़ी जिन्होंने 20 ओवर में 119 रन दे डाले।

सहवाग ने कहा कि मुरली का सामना करना बड़ी चुनौती है। उसके जैसे स्पिनर के सामने आक्रामक खेलना ही सर्वश्रेष्ठ रणनीति है अन्यथा वह दबाव बना लेता है। उसे इसका मौका देने से अच्छा है कि पहली गेंद से ही उस पर दबाव बना लिया जाये। इस सलामी बल्लेबाज ने कहा कि अहमदाबाद और कानपुर में चूकने के बाद वह यहां बड़ी पारी खेलने के इरादे से ही उतरे थे। उन्होंने कहा कि मैं पिछले दो टेस्ट में चूक गया लेकिन यहां नहीं चूकना चाहता था। मैने अपना समय लिया और पारी को आगे बढाया।
    
लंच के बाद सहवाग को रोक पाना मुश्किल था। उन्होंने कहा कि मुझे गेंद अच्छी तरह दिखने लगी थी। मैने सोचा कि अपने अंदाज में बल्लेबाजी की, गेंद को देखकर उसे पीटा जाये। सहवाग ने कहा कि यह बल्लेबाजी के लिये अच्छी विकेट थी। पहले दिन विकेट नम था लेकिन आज बेहतर लगा और चौथे दिन से यह टर्न लेने लगेगा।

सलामी बल्लेबाज मुरली विजय (87) शतक से चूक गए। उन्होंने अपनी पारी के बारे में कहा, मैं काफी पाजीटिव था। एक गलती भारी पड़ी लेकिन अगले मैच में इसे नहीं दोहराउंगा। यह पूछने पर कि सहवाग ने उन्हें क्या टिप्स दिये, विजय ने कहा कि उन्होंने मुझे आखिरी क्षण तक गेंद पर ध्यान बनाये रखने के बाद शाट खेलने के लिये कहा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुरली के खिलाफ आक्रमण ही सर्वश्रेष्ठ रक्षण है: सहवाग