class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लिब्रहान पर बहस में सांसदों को तैयार करने की कवायद

लिब्रहान आयोग की रिपोर्ट पर संसद में बहस की के मद्देनजर बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी और ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की कमेटी ऑन बाबरी मस्जिद ने कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और कुछ मुस्लिम व सेक्यूलर छवि वाले सांसदों को तैयार करने की मुहिम छेड़ी है।

बाबरी एक्शन कमेटी के संयोजक जफरयाब जीलानी ने हिन्दुस्तान से बातचीत में कहा कि लोकसभा व राज्यसभा के जिन सदस्यों से हम संपर्क में हैं उनको ब्रीफ किया गया है। कुछ सवाल हमने उन्हें बताए हैं जो सरकार से पूछे जाने चाहिए और कुछ सुझाव भी हमने दिए हैं।

अहम् सवाल यही है कि लिब्रहान आयोग की रिपोर्ट के ताअल्लुक से केन्द्र सरकार यह बताए कि इस मामले की सुनवाई और उसके तेजी से निपटारे का तरीका क्या होगा क्योंकि केन्द्र की एटीआर (कार्रवाई रिपोर्ट) में यही संकेत दिया गया है।

बकौल श्री जीलानी सिविल केस के लिए केन्द्र सरकार सुप्रीम कोर्ट में अर्जी देकर अनुरोध करे कि बाबरी मस्जिद-रामजन्मभूमि विवाद की सुनवाई हाईकोर्ट के जो जज कर रहे हैं, उन्हें खासतौर पर इसी मामले की सुनवाई करने दी जाए।

इस बेंच के जजों का स्थानातंरण न होने दिया जाए और जो जज रिटायर हो रहे हों उन्हें फिर से बतौर अतिरिक्त जज इसी बेंच के लिए फिर से तैनात करवाया जाए। क्रिमिनल केस के बारे में हाईकोर्ट में केन्द्र सरकार या सीबीआई अर्जी दे कि मजिस्ट्रेट इस केस की रोजाना सुनवाई करें और उन मजिस्ट्रेट का भी तबादला न होने पाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लिब्रहान पर बहस में सांसदों को तैयार करने की कवायद