अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विकलांग फ्रेंडली स्कूटर बांटने की योजना शुरू

चुनावी वर्ष शुरू होते ही जनता के लिए लोक लुभावन आईटम लॉंच किये जाने लगे। केन्द्र सरकार भला क्यों पीछे रहे उसने सूबे के विकलांगों के लिए एक नया आईटम पेश किया है। उनके लिए विकलांग फ्रेडली कीट वाले स्कूटर वितररित करने का प्लान शुरू किया गया है। पहले चरण में एक दजर्न विकलांगों का चयन किया गया। चयनित युवकों को विकलांग फ्रेंडली स्कूटर दे दिये गये। विकलांगों की मदद के लिए बनी यह योजना सरकार क ी सहायता से राजीव गांधी फाउंडेशन द्वारा चलाई जा रही है।  


राजीव गांधी फाउंडेशन ने लाभार्थियों के चयन के लिए सरकारी अधिकारियों और स्वयंसेवी संस्थाओं के प्रमुखों की एक कमेटी बनाई है। योजना के लाभ के लिए विकलांगों के चयन में विकलांगता की प्रकृति और प्रतिशतता के साथ पारिवारिक आय पर भी ध्यान दिया जाना है। इस बार आवेदन सीधे मंगाये गये आगे से यह काम राज्य सरकार के माध्यम से कराया जाएगा। हालांकि इस बार भी चयनित विकलांगों के आवेदनों की स्क्रूटनी राज्य सरकार से कराई गई। जांच के लिए सूची राज्य के समाज कल्याण विभाग को भेजी गई थी। जिन विकलांगों को स्कृटर दिये गये उनमें चार लड़कियां भी शामिल हैं। राज्य निशक्तता आयुक्त महेश्वर प्रसाद सिंह ने बताया कि बेगूसराय के चुनचुन कुमार, सहार के दीपक कुमार तिवारी, आरा के इल्ताफ अंसारी, कहलगांव के कुंदन कुमार केशरी, भागलपुर के विनोद कुमार रमण, नालंदा के महफूज आलम, छपरा के रंजीत कुमार गुप्ता, सीतामढ़ी के मनीश कुमार झा, वैशाली की सरिता कुमारी, तिलौथू की भी सरिता कुमारी और  गया की सुमन कुमारी को योजना का लाभ मिला है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विकलांग फ्रेंडली स्कूटर बांटने की योजना शुरू