class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इनामी नक्सली रामवृक्ष कोल का शव बरामद

कोन थाना क्षेत्र के अमिलाधाम के जंगल में बुधवार को नक्सलियों के दो गुटों के बीच संघर्ष में 50 हजार के इनामी कुख्यात नक्सली रामवृक्ष कोल के मारे जाने की पुष्टि हो गयी है। रेंज के डीआईजी आर.पी. सिंह ने पुष्ट किया है कि, जंगल में मिली लाश रामवृक्ष कोल की ही है। मौके से एक एसएलआर भी बरामद होने की चर्चा है। पुलिस ने दो नक्सलियों को गिरफ्तार भी किया है।

इस घटना से नक्सलियों में चल रही आपसी खींचतान खुलकर सामने आ गयी है। पुलिस अधीक्षक डॉ. प्रीतिन्दर सिंह समेत भारी फोर्स ने गुरुवार को दिनभर जंगल में कांबिंग की। प्राप्त जानकारी के अनुसार, कोन थाना क्षेत्र के अमिलाधाम के जंगल में बुधवार को तड़के नक्सलियों के दो गुटों के बीच फायरिंग और आपसी संघर्ष की बात सामने आयी थी।

इस बीच यह भी चर्चा में आया था कि, क़ुख्यात नक्सली मुन्ना विश्वकर्मा ने अपने सहयोगी 50 हजार के इनामी नक्सली की गोली मारकर हत्या कर दी है। इस खबर को लेकर सोनभद्र पुलिस गंभीर हो गयी थी और बुधवार से ही मामले की सच्चई जानने तथा नक्सलियों की टोह लेने की नीयत से कोन के बार्डर के इलाकों में सघन कांबिंग कर रही थी। पता चला है कि, गुरुवार को पुलिस अधीक्षक की अगुवाई में कोन थाना समेत विभिन्न थानों की पुलिस तरिया के जंगल में सघन कांबिंग कर रही थी कि, इसी दौरान पुलिस को अमिलाधाम के जंगल में ही एक लाश मिली।

पुलिस ने इस बात की पड़ताल शुरू की कि, आखिरकार उक्त लाश किसकी है। काफी मशक्कत के बाद पुलिस इस नतीजे पर पहुंची कि, उक्त लाश कुख्यात नक्सली रामवृक्ष कोल की ही है। सूत्र बताते हैं कि, पुलिस ने सोनभद्र व झारखण्ड के दो नक्सलियों को गिरफ्तार भी किया है और उन्हीं से रामवृक्ष की शिनाख्त करायी है।

हालांकि इस बात की अधिकारिक पुष्टि नहीं हो पायी है कि, पुलिस ने शव की शिनाख्त किससे करायी, किन्तु विन्ध्याचल मंडल के डीआईजी आर.पी. सिंह ने इस बात की पुष्टि की है कि जो शव अमिलाधाम के जंगल में मिला है, वह रामवृक्ष कोल का ही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इनामी नक्सली रामवृक्ष कोल का शव बरामद