अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विवादित परिसर को पर्यटन विभाग ने रामजन्मभूमि माना

अयोध्या में विवादित स्थल पर बाबरी मस्जिद है या रामजन्मभूमि, यह मामला हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ में विचाराधीन है लेकिन यूपी के पर्यटन विभाग ने विवादित स्थल को रामजन्म भूमि मान लिया है। इसकी तस्दीक पर्यटन विभाग की ओर से रामायण मेले के दौरान जारी ‘अयोध्या-फैजाबाद’ सिटी गाइड में मौजूद मानचित्र से होती है।

इसमें जहाँ विवादित परिसर चिह्न्ति किया गया है, वहाँ स्पष्ट रूप से गाढ़े लाल रंग में राम जन्मभूमि शब्द लिखा है। पर्यटन विभाग के महानिदेशक अवनीश अवस्थी ने कहा कि ऐसी गड़बड़ी स्थानीय स्तर पर ही हुई होगी। वे इसकी जाँच कराएँगे।

पर्यटन विभाग के रवैए से खफा हेलाल कमेटी के संयोजक और राम जन्मभूमि-बाबरी मजिस्द विवाद के हाईकोर्ट से नामित पक्षकार खालिक अहमद खाँ ने विवादित गाइड के वितरण पर तत्काल रोक लगाने की माँग की है। उनका कहना है कि यह विवाद 60 वर्षो से हाईकोर्ट में विचाराधीन है। कोर्ट तय करेगा कि वहाँ राम जन्मभूमि है या बाबरी मस्जिद।

उन्होंने शिकायत की कि गाइड के मानचित्र में केवल अयोध्या के हिन्दू स्थान दर्शाए गए हैं। यहाँ के ऐतिहासिक गुरुद्वारे, ब्रrाकुण्ड, मुसलमानों की ऐतिहासिक दरगाहों, मजारों, मकबरों, इमामबाड़ों व मस्जिदों को नहीं दिखाया गया। न ही बौद्ध स्थलों के बारे में बताया गया है। श्री खान ने पर्यटन विभाग की इस कार्यप्रणाली को साम्प्रदायिक व द्वेषपूर्ण करार देते हुए इसे प्रदेश की मौजूदा सरकार की घोषित नीति के खिलाफ बताया।

-अयोध्या भूमि कानून 1993 (दि एक्वीजीशिन ऑफ सर्टेन एरिया एक्ट अयोध्या एक्ट, 1993 सं. 33 ऑफ 1993)  के सेक्शन सात में विवादित स्थल को राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद बताया गया है। यह कानून सात जनवरी 1993 में भारत सरकार ने बनाया था। सुप्रीम कोर्ट ने इस कानून को वैध माना है।

-डॉ.एम. इस्माइल फारुकी आदि बनाम भारत सरकार व अन्य, दिनांक 24-10-1994 के मुकदमे में यह स्पष्ट किया गया है। लम्बित मुकदमे में दोनों पक्षकारों को वाद के टाइटिल राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद पर कोई आपत्ति नहीं है।  — नामित पक्षकार खालिक अहमद खाँ 

अयोध्या-फैजाबाद सिटी गाइड का प्रकाशन पर्यटन विभाग ने किया है। गाइड के मुखपृष्ठ पर उत्तर प्रदेश पर्यटन लिखा है और पर्यटन विभाग का लोगो भी प्रकाशित किया गया है। अन्तिम पृष्ठ पर क्षेत्रीय पर्यटन कार्यालय व पर्यटन सूचना केन्द्र का पता देते हुए विस्तृत जानकारी के लिए सम्पर्क करने की अपील भी की गई है।

-रामायण मेला समिति के महामंत्री व वरिष्ठ पत्रकार शीतला सिंह का मानना है कि जिस स्थान पर मौजूदा समय रामलला विराजमान है, वहाँ पहले बाबरी मस्जिद थी। श्री सिंह के अनुसार मौजूदा समय में इस स्थान को विवादित परिसर ही कहा जाना उचित है। अदालत का फैसला आने के पूर्व राम जन्मभूमि कहना ठीक नहीं।

-अयोध्या में रामायण मेले का आयोजन हर वर्ष पर्यटन व संस्कृति विभाग के संयुक्त प्रयास से रामायण मेला समिति करती है। इस वर्ष पहली बार 20 से 23 नवम्बर तक आयोजित रामायण मेले में पर्यटन विभाग ने गाइड वितरित की।

-मेले के बाद भी अयोध्या आने वाले श्रद्धालु व पर्यटकों के बीच पयर्टन विभाग की ओर से इस सिटी गाइड का वितरण किया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विवादित परिसर को पर्यटन विभाग ने रामजन्मभूमि माना
पांचवां एक-दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच
अफगानिस्तान241/9(50.0)
vs
जिम्बाब्वे95/10(32.1)
अफगानिस्तान ने जिम्बाब्वे को 146 रनो से हराया
Mon, 19 Feb 2018 04:00 PM IST
पांचवां एक-दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच
अफगानिस्तान241/9(50.0)
vs
जिम्बाब्वे95/10(32.1)
अफगानिस्तान ने जिम्बाब्वे को 146 रनो से हराया
Mon, 19 Feb 2018 04:00 PM IST
फाइनल
न्यूजीलैंड
vs
ऑस्ट्रेलिया
ईडन पार्क, ऑकलैंड
Wed, 21 Feb 2018 11:30 AM IST