class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विश्व व्यापार समझौते पर भारत के रुख में बदलाव नहीं : शर्मा

विश्व व्यापार समझौते पर भारत के रुख में बदलाव नहीं : शर्मा

भारत ने अपने किसानों तथा छोटे उद्यमियों के हितों को ध्यान में रखते हुए विश्व व्यापार को उदार बनाने के लिए विश्व व्यापार संगठन की वार्ताओं के बारे में अपने एख में किसी तरह का बदलाव नहीं किया है।
     

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री आनंद शर्मा ने एक आधिकारिक बयान में कहा, कृषि और गैर कृषि उत्पादों (नामा) के बाजार खोलने के मुद्दे पर  भारत के रुख में किसी तरह का बदलाव नहीं हुआ है।

शर्मा के नेतृत्व में ही भारतीय प्रतिनिधिमंडल डब्ल्यूटीओ की मंत्रिस्तरीय बैठक में भाग लेने गया था। जिनीवा में यह बैठक कल संपन्न हुई। इस बैठक में 153 देशों के व्यापार मंत्रियों ने हिस्सा लिया। विश्व व्यापार के उदारीकरण से आयात में संभावित बढ़ोत्‍तरी के मद्देनजर भारत अपने किसानों तथा लघु उद्योगों के लिए हितों के संरक्षण के लिए एक प्रभावी संरक्षण तंत्र के लिए दबाव बना रहा है।
    

बैठक के बाद संवाददाताओं को संबोधित करते हुए शर्मा ने कहा कि इस बार की बैठक समझौता वार्ता के लिए नहीं थी पर इस दौरान विभिन्न समूहों तथा संगठनों को वार्ताओं की दिशा और दशा के आकलन करने का उपयोगी मौका मिला। शर्मा ने कहा कि पहली प्राथमिकता विश्व व्यापार के उदारीकरण की दोहा दौर की वार्ता को जल्द से जल्द पूरा करने की होनी चाहिए।

मंत्रिस्तरीय बैठक के कार्यसत्र को संबोधित करते हुए शर्मा ने कहा कि भारत और उसके गठबंधन सहयोगी इस बात को लेकर एकजुट हैं कि गरीब और सीमान्त किसानों के हितों का संरक्षण किया जाना चाहिए। वैश्विक मंदी के कारण सितंबर, 2008 से आई व्यापार वित्त में गिरावट का उल्लेख करते हुए उन्होंने पूंजी और निवेश के प्रवाह के पुन:संतुलन तथा श्रमिकों की बिना बाधा की आवाजाही की जरूरत पर जोर दिया।

शर्मा ने व्यापार प्राथमिकताओं पर वैश्विक प्रणाली की वार्ता समिमि (जीएसटीपी) के मंत्रिस्तरीय सत्र को भी संबोधित किया। शर्मा ने जिनीवा बैठक के दौरान अर्जेंटीना, मलेशिया तथा आस्ट्रेलिया के व्यापार मंत्रियों से मुलाकात की और उनके साथ दोहा दौर सहित कई मसलों पर विचार-विमर्श किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विश्व व्यापार समझौते पर भारत के रुख में बदलाव नहीं