class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सभी देखते हैं पॉर्न

सभी देखते हैं पॉर्न

वैसे तो सभी व्यक्ति अश्लील सामग्री नहीं देखते लेकिन हाल ही में कनाडा में जब वैज्ञानिकों ने एक ऐसी व्यक्ति की खोज शुरू की जिसने कभी कोई ऐसी सामग्री नहीं देखी हो तो उन्हें निराशा हाथ लगी।

अफसोस, उन्हें एक भी ऐसा आदमी नहीं मिला। असल में वैज्ञानिकों के अंतरराष्ट्रीय दल को 20 साल की उम्र वाले एक ऐसे व्यक्ति की तलाश थी जिसने कभी नियमित तौर पर अश्लील सामग्री न देखी हो। सर्वेक्षण को शुरूआत में ही इस बड़ी चुनौती से जुझना पड़ा क्योंकि उन्हें ऐसा कोई भी शख्स नहीं मिला।

डेली मेल के अनुसार, अध्ययन से जुड़े प्रोफेसर सिमोन लुइस लाजेयूनीस ने कहा कि हमने शोध की शुरूआत 20 की उम्र वाले एक ऐसे व्यक्ति की खोज से की जिसने कभी अश्लील सामग्री न देखी हो। हमें ऐसा कोई नहीं मिला।

इसके बाद वैज्ञानिकों ने ऐसी सामग्री देखने वाले युवकों की आदतों के बारे में अध्ययन करना शुरू किया। दल ने 20 कॉलेज छात्रों का इंटरव्यू लिया। उन्होंने पाया कि इन छात्रों ने 10 साल की अवस्था से ही अश्लील सामग्री देखनी शुरू कर दी थी।

शोधकर्ताओं ने पाया कि इंटरनेट अश्लील सामग्री का सबसे बड़ा स्रोत है। 90 फीसद साम्रगी यह मुहैया करता है जबकि 10 प्रतिशत वीडियो स्टोर से मिल जाता है। अकेला आदमी हफ्ते में औसतन तीन बार और चालीस मिनट तक अश्लील चीजें देखते हैं जबकि जिन लोगों के जीवन में कोई है वह भी हफ्ते में 1.7 बार करीब 20 मिनट के लिए इसे देखते हैं।

अध्ययन में पाया गया कि मनुष्य अपनी कलपना के अनुसार पॉर्न पसंद होता है। प्रो लाजेयूनीस ने कहा कि पॉर्न देखने वाले इन व्यक्तियों की सभी यौन क्रियाएं पारंपरिक थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सभी देखते हैं पॉर्न