अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुनाफा वसूली के दबाव में बाजार फिसला

वैश्विक बाजारों में से मिले जुले संकेत आने तथा घरेलू और विदेशी संस्थागत निवेशकों की बिकवाली के जोर से शेयर बाजारों ने सोमवार को उथल पुथल भरे कारोबार के बीच गिरावट का रूख किया। बंबई स्टाक एक्सचंेज के सेंसेक्स में कारोबारी सप्ताह की शुरूआत 1अंकों की गिरावट के साथ हुई। नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी भी 66 अंक फिसला। वैश्विक बाजारांे मंे कमोबेश मंदी रही। चीन का श्ांघाई कंपोजिट 1.75 अंक, हांगकांग का हैंगसेंग 1.7 प्रतिशत और आस्ट्रेलिया का आस्सी 0.4 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की हालांकि जापान का निक्केई 0.2 प्रतिशत तेज रहा। ब्रिटेन का एफटीएसई 1.3 प्रतिशत, अमेरिका का डाउ जोन्स। प्रतिशत, नासडाक 1.5 प्रतिशत और एसएंडपी 1.1 प्रतिशत की गिरावट के साथ कारोबार कर रहे थे। सेंसेक्स ने हालांकि पिछले करोबारी सत्र की समाप्ति की तुलना में 120अंको की बढ़त के साथ 11अंकों पर तेज शुरूआत की लेकिन बीच सत्र में मुनाफा वसूली से इसमेंउतार चढ़ाव देखा गया।यह एक समय 12026.60 अंको के उंचे स्तर और 11621.30 अंको के निचले स्तर तक गया और आखिर में 1अंकों की गिरावट के साथ 11682.अंको पर बंद हुआ। निफ्टी ने 3615.75अकों पर कमजोर शुरूआत की और 3660.20 अकं उपर और 3534.55अंक नीचे जाते हुए 66.10अंको की गिरावट के साथ 3554.60 अंको पर बंद हुआ। चुनावी नतीजांे को लेकर जारी अनिश्चितता ने तेज खुले बाजारांे पर दबाव बनाया। बाजार में पिछले नौ सप्ताह से जारी तेजी से मुनाफा काटने से चुके निवेशकांे ने बीच सत्र मंे आटो, बैंकिंग, आईटी, तेल एंव गैस और धातु के शेयरों की जबरदस्त बिकवाली शुरू कर दी जिससे शेयर बाजार पर जबरदस्त दबाव पड़ा। सेंसेक्स के कुल 0 शेयर लाभ में रहे और 1573 नुकसान में जबकि 8में कोई बदलाव नहीं हुआ। सबसे यादा मुनाफा कमाने वाले शेयरों में आईसीआईसीआई बैंक 0.55 प्रतिशत, सन फार्मा 0.46 प्रतिशत, मारूति सुजूकी 0.33 प्रतिशत और एचडीएफसी 0.11 प्रतिशत फायदे मंे रहे। जबकि डीएलएफ 5.10 प्रतिशत, एसबीआई 4.86 प्रतिशत, रिलायंस कम्युनिकेशन्स 4.64 प्रतिशत, जयप्रकाश एसोसिएट 4.61 प्रतिशत तथा टाटा मोटर्स 4.25 प्रतिशत घाटे मंे रहे। घाटा उठाने वाले वर्ग मंे आटो.0.55 प्रतिशत.बैकिंग 0.75 प्रतिशत, आईटी 1.05 प्रतिशत, एचसी 1.06 प्रतिशत, एफएमसीजी 1.0प्रतिशत, पीएसयू 1.63 प्रतिशत, तेल एंव गैस 1.65 प्रतिशत, धातु 1.72 प्रतिशत, टेक 1.77 प्रतिशत, सीजी 2.48 प्रतिशत, सीडी 2.5प्रतिशत और रियलटी 5.10 प्रतिशत नुकसान में रहे। बाजार विश्लेषकांे के मुताबिक बाजार में पिछले नौ सप्ताह से जारी तेजी पर चुनावी नतीजांे का जबरदस्त असर पड़ेगा। यदि नतीजे उम्मीद मुताबिक हुए तो बाजार जबरदस्त उछाल ले सकते हैं लेकिन यदि इसके उलट हुआ तो बिकवाली का जोर बाजारों मंे गिरावट ला सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मुनाफा वसूली के दबाव में बाजार फिसला