class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आठ शहरों में लगेंगे एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग स्टेशन

बढ़ती इंडस्ट्री और विकास की तेज रफ्तार में दूषित हो रहे पर्यावरण के बारे में लोगों को सचेत करने व उनके स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव डालने वाले तत्वों की मात्र का पता लगाने के लिए हरियाणा स्टेट पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने आठ शहरों में एंबियंट एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग स्टेशन लगाने की योजना तैयार की है।

इस स्टेशन की मदद से वायु में निहित हानिकारक तत्वों की मात्र का पता चल सकेगा। सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड द्वारा तय मानकों के अनुसार प्रदेश में स्थित सेंट्रल व रीजनल लेबोरेटरी को अपडेट करने के अलावा चार स्थानों पर नई रीजनल लेबोरेटरी बनाने की योजना है।

पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने साढ़े 35 करोड़ रुपए की इस योजना को मंजूरी दे दी है। वित्तिय सहायता के लिए यह प्रस्ताव सेंटर पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के पास भेज दिया गया है। स्टेट पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड(एसपीसीबी) के सूत्रों का कहना है कि विकास की दौड़ में इंडस्ट्री संचालकों व अन्य बड़े व्यावसायिक संस्थानों द्वारा पर्यावरण की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

वायु प्रदूषण के अलावा संस्थानों से निकलने वाला हानिकारक केमिकल भी मानव स्वास्थ्य के लिए बड़ा खतरा बन गया है। एसपीसीबी के पास मौजूदा समय में जो तकनीकी सुविधाएं व स्टाफ है, उसे नाकाफी बताया गया है। वायु प्रदूषण के हानिकारक तत्वों का पता लगाने के लिए फिलहाल फरीदाबाद में ही एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग स्टेशन स्थापित किया गया है।

एसपीसीबी ने गुड़गांव, रोहतक पानीपत, बहादुरगढ़, धारूहेड़ा, यमुनानगर, हिसार व सोनीपत में भी एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग स्टेशन बनाने के प्रपोजल को मंजूरी दी है। इस स्टेशन की मदद से वायु में सल्फर डाईआक्साइड, नाइट्रोजन डाईआक्साइड, पार्टीकुलेट मैटर (10 माइक्रोन से कम आकार वाले), पार्टीकुलेट मैटर (2.5 माइक्रोन से कम आकार वाले), ओजोन, सीसा, कार्बन मोनोआक्साइड, अमोनिया, बैन्जीन, बैंजो ए पाईरीन, आर्सेनिक व निकिल आदि तत्वों का पता लग सकेगा।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आठ शहरों में लगेंगे एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग स्टेशन